Breaking
573 मीटर ऊंची पहाड़ी पर रोकी पेड़ों की कटाई, अब इस पहाड़ी पर हरे-भरे हैं डेढ़ लाख से ज्यादा पेड़ नाराज मुख्यमंत्री की लगातार 6 पोस्ट, ईडी-आईटी वाले अफसरों को मुर्गा बनाकर पीट रहे हैं, अब शिकायत मिल... रिफ्लेक्टर जैकेट, एल्कोमीटर होने के बाद भी रात में ट्रैफिक पुलिस सड़कों से हो जाती है गायब दिन का तापमान जहां 28 डिग्री, न्यूनतम 8.1 डिग्री पर पहुंचा, सर्द उत्तरी हवाओं से दिन में भी बढ़ी ठिठु... अलीगढ़ में जिला बॉडी बिल्डिंग एसोसिएशन ने कराई प्रतियोगिता, प्रदेश के 200 से ज्यादा युवा हुए शामिल मध्यप्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों से गुजर रही यात्रा, भिलाई नगर विधायक निभा रहे अहम भूमिका 14.5 करोड़ की हेरोइन बरामद, आरोपियों से 20 हजार ड्रग मनी और 2 स्कूटर भी मिले  भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने पर कांग्रेस नेताओं पर केस दर्ज  ट्रक से टकराए बाइक सवार बुजुर्ग; सिंगोडी बाइपास पर युवक की भी मौत स्टूडेंट्स के उज्ज्वल भविष्य के लिए लिंग्याज की टीम करियर काउंसलिंग कर दिखा रही राह

अधिकारी बांधों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दें : जल संसाधन मंत्री सिलावट

भोपाल : जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि प्रदेश के बांधों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दें।  मंत्री श्री सिलावट ने आज मंत्रालय में बांध सुरक्षा संबंधी बैठक में यह निर्देश दिए। श्री सिलावट कहा कि वर्षा काल से पूर्व प्रदेश के सभी बांधों की सुरक्षा संबंधी रिपोर्ट बनाई जाये। इसके लिये संभाग स्तरीय निरीक्षण समितियों का गठन हो, जो सभी मुख्य बांधों की सुरक्षा संबंधी ऑडिट रिपोर्ट बनाकर प्रस्तुत करे।

मंत्री श्री सिलावट ने गांधी सागर बांध की  सुरक्षा संबंधी जाँच समिति की रिपोर्ट पर चर्चा कर रिपोर्ट पर कार्रवाई के निर्देश दिये। प्रमुख अभियंता, मुख्य अभियंता बांध सुरक्षा सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

मंत्री श्री सिलावट ने बांधों की सुरक्षा के संबंध में भारत सरकार द्वारा पारित नवीन बांध सुरक्षा अधिनियम-2021 के प्रावधानों पर भी कर उन्हें शीघ्र लागू किये जाने के निर्देश दिये। साथ ही बांध सुरक्षा के संबंध में पूर्व में दिये गये निर्देशों के अनुपालन और विभाग द्वारा की गई कार्यवाही की रिपोर्ट 5 दिन में प्रस्तुत करने को कहा। उन्होंने सभी महत्वपूर्ण बांधों एवं नहरों पर सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाने, पुराने गेटों की मरम्मत एवं बांध सुरक्षा में नवीन तकनीक के उपयोग के निर्देश दिये। उन्होंने इस कार्य में तकनीक विशेषज्ञों की सहायता लेने को कहा।

मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि बांध सुरक्षा में नवीन तकनीक आर.टी.डी.ए.एस. प्रणाली का उपयोग किया जाये। यह एक चेतावनी प्रणाली है, जिससे अतिवृष्टि के समय बांध में जल की आवक को देखते हुए गेट खोलने और अन्य आवश्यक कदम उठाने में मदद मिलेगी।

मध्यप्रदेश बांधों की सुरक्षा की सजगता को लेकर अग्रणी राज्य है। बांध सुदृढ़ीकरण एवं उन्नयन परियोजना के प्रथम चरण में प्राथमिकता के आधार पर पिछले 5 वर्षों में 25 बांधों का पुनरूद्धार किया जा चुका है। दूसरे चरण में 551 करोड़ रूपये के व्यय से 26 बांधों का सुदृढ़ीकरण किया जाना प्रस्तावित है।

573 मीटर ऊंची पहाड़ी पर रोकी पेड़ों की कटाई, अब इस पहाड़ी पर हरे-भरे हैं डेढ़ लाख से ज्यादा पेड़     |     नाराज मुख्यमंत्री की लगातार 6 पोस्ट, ईडी-आईटी वाले अफसरों को मुर्गा बनाकर पीट रहे हैं, अब शिकायत मिली तो कार्रवाई     |     रिफ्लेक्टर जैकेट, एल्कोमीटर होने के बाद भी रात में ट्रैफिक पुलिस सड़कों से हो जाती है गायब     |     दिन का तापमान जहां 28 डिग्री, न्यूनतम 8.1 डिग्री पर पहुंचा, सर्द उत्तरी हवाओं से दिन में भी बढ़ी ठिठुरन, रात का तापमान स्थिर     |     अलीगढ़ में जिला बॉडी बिल्डिंग एसोसिएशन ने कराई प्रतियोगिता, प्रदेश के 200 से ज्यादा युवा हुए शामिल     |     मध्यप्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों से गुजर रही यात्रा, भिलाई नगर विधायक निभा रहे अहम भूमिका     |     14.5 करोड़ की हेरोइन बरामद, आरोपियों से 20 हजार ड्रग मनी और 2 स्कूटर भी मिले     |      भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने पर कांग्रेस नेताओं पर केस दर्ज      |     ट्रक से टकराए बाइक सवार बुजुर्ग; सिंगोडी बाइपास पर युवक की भी मौत     |     स्टूडेंट्स के उज्ज्वल भविष्य के लिए लिंग्याज की टीम करियर काउंसलिंग कर दिखा रही राह     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201