Breaking
झारखंड के लातेहार में दो नक्सली गिरफ्तार डिजिटल इंडिया आम आदमी के फायदे के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग से जुड़ा  Beauty Tips : स्किन पर जादू की तरह काम करता है चुकंदर, बस इस तरह करें इस्तेमाल जेल में प्लानिंग, 7 दिन की रैकी के बाद की थी 35 लाख की लूट, 5 गिरफ्तार 300 गज प्लाट की रजिस्ट्री को लेकर था दबाव में, खेतों में पेड़ पर लटकता मिला शव डीएम ने यूनिसेफ के सहयोग से बनाई रणनीति, बोले- बच्चों के लिए टीकाकरण जरूरी आईएईए यूक्रेन में सभी परमाणु संयंत्रों में मजबूत करेगा अपनी उपस्थिति दिल्ली में ईमामों और मौलवियों को वेतन देते हैं केजरीवाल  कांग्रेस अध्यक्ष की टिप्पणी पर कहा- विनाश काले विपरीत बुद्धि चिटफंड कंपनी की आड़ में पैसा दोगुना करने का झांसा देकर फंसाते थे; डायरेक्टर गिरफ्तार

इस दिन मनाई जाएगी रंगभरी एकादशी, बन रहा है सर्वार्थ सिद्धि योग

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, फाल्गुन माह (Phalguna Month) के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रंगभरी एकादशी मनाई जाती है. इसे आमलकी एकादशी (Amalaki Ekadashi) भी कहते हैं.

यह एक मात्र ऐसी एकादशी है, जिसका संबंध भगवान शिव (Lord Shiva) से भी है. रंगभरी एकदशी अकेली ऐसी एकादशी है जिसका भगवान विष्णु के अलावा भगवान शंकर से भी संबंध है. रंगभरी एकादशी के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की विशेष पूजा बाबा विश्वानाथ की नगरी वाराणसी में होती है.

फाल्गुन शुक्ल पक्ष का एकादशी यानि रंगभरी एकादशी तिथि की शुरुआत 13 मार्च की सुबह 10 बजकर 21 मिनट से शुरू होगी. एकादशी तिथि का समापन 14 मार्च को दोपहर 12 बजकर 05 मिनट पर होगा. पंचांग के मुताबिक उदया तिथि होने के कारण रंगभरी एकादशी 14 मार्च को मनाई जाएगी. रंगभरी एकादशी का शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 07 मिनट से 12 बजकर 54 मिनट तक है

रंगभरी एकादशी के दिन इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है. सर्वार्थ सिद्धि योग प्रातः 06:32 मिनट से रात्रि 10:08 मिनट तक रहेगा। रंगभरी एकादशी को पुष्य नक्षत्र रात्रि 10:08 मिनट तक होगा.

रंगभरी एकादशी के दिन भगवान शिव पहली बार माता पार्वती को अपनी नगरी काशी में लेकर आए थे. कहा जाता है कि बाबा विश्वनाथ माता गौरा का गौना कराकर पहली बार काशी आए थे, तब उनका स्वागत रंग, गुलाल से हुआ था. इस वजह से हर साल काशी में रंगभरी एकादशी के दिन बाबा विश्वनाथ और माता गौरा का धूमधाम से गौना कराया जाता है.

पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक रंगभरी एकादशी के दिन ही भगवान शिव माता पार्वती को विवाह के पश्चात् काशी लेकर आए थे. इस दिन सुबह स्नान के बाद पूजा का संकल्प लें. इसके किसी पात्र में जल भरकर शिव मंदिर जाएं. साथ में अबीर, गुलाल, चंदन और बेलपत्र भी ले जाएं. सबसे पहले शिवलिंग पर चंदन लगाएं. इसके बाद बेलपत्र और जल अर्पित करें. फिर अबीर और गुलाल अर्पित करें. पूजा के बाद भगवान शिव से सभी परेशानियां दूर करने की प्रार्थना करें

झारखंड के लातेहार में दो नक्सली गिरफ्तार     |     डिजिटल इंडिया आम आदमी के फायदे के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग से जुड़ा      |     Beauty Tips : स्किन पर जादू की तरह काम करता है चुकंदर, बस इस तरह करें इस्तेमाल     |     जेल में प्लानिंग, 7 दिन की रैकी के बाद की थी 35 लाख की लूट, 5 गिरफ्तार     |     300 गज प्लाट की रजिस्ट्री को लेकर था दबाव में, खेतों में पेड़ पर लटकता मिला शव     |     डीएम ने यूनिसेफ के सहयोग से बनाई रणनीति, बोले- बच्चों के लिए टीकाकरण जरूरी     |     आईएईए यूक्रेन में सभी परमाणु संयंत्रों में मजबूत करेगा अपनी उपस्थिति     |     दिल्ली में ईमामों और मौलवियों को वेतन देते हैं केजरीवाल      |     कांग्रेस अध्यक्ष की टिप्पणी पर कहा- विनाश काले विपरीत बुद्धि     |     चिटफंड कंपनी की आड़ में पैसा दोगुना करने का झांसा देकर फंसाते थे; डायरेक्टर गिरफ्तार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201