केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने ‘नाथ मंदिर’ को बताया सिद्ध स्थान, बोले

इन्दौर । केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी गुरूवार दोपहर करीब 12.30 बजे साउथ तुकोगंज स्थ‍ित ‘नाथ मंदिर’ पहुंचे। यहां उन्होंने माधवनाथ महाराज की समाधि पर पहुंचकर दर्शन किये। पूजा-अर्चना के बाद उन्होने प्रसाद भी ग्रहण किया। इस दौरान ट्रस्टियों से चर्चा करते हुए कहा कि इस सिद्ध स्थान पर आकर सकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति होती है।
केन्द्रीय मंत्री गडकरी यहां करीब 30 मिनट तक रुके। मंदिर के ट्रस्ट‍ियों ने उन्हें यहां चल रही सेवा गतिव‍िध‍ियों की जानकारी दी। साथ ही आगामी 17 मार्च से श्री माधवनाथ महाराज के 7 दिवसीय जन्मोत्सव के तहत होने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा पर चर्चा की। इस मौके पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, नाथ मंदिर न्यासी मंडल के अध्यक्ष व्ही.एस. कोकजे, एडवोकेट अविनाश शिरपुरकर, प्रदीप (बाबा साहब) तराणेकर, सचिव संजय नामजोशी, विधायक आकाश विजयवर्गीय आदि मौजूद थे।
ट्रस्ट के सचिव संजय नामजोशी ने बताया कि 1935 में इस भव्य समाधि मंदिर का निर्माण हुआ और 15 मई 1935 में स्वयं महाराज ने चरण पादुकाओं की स्थापना की तथा मंदिर के गर्भ गृह में समाधि के लिए एक स्थान निश्चित किया और यह आश्वासन दिया कि मेरी अंतिम शक्ति सदा के लिए यही रहेगी और भक्तों के दुखों का निराकरण और मार्गदर्शन प्रदान करेगी। होलकर परिवार ने इस मंदिर निर्माण में सहयोग प्रदान किया। 1936 में एकनाथ षष्ठी के दिन योगाभ्यानन्द माधवनाथ महाराज ने नषवर देह का त्याग किया। इसके पश्चात महाराज ने पार्थिव देह को उनकी आज्ञा अनुसार निश्चित किए गए स्थान पर समाधिस्थ किया गया। जीवनपर्यंत माधवनाथ महाराज ने जिस उद्देश्य के लिए कार्य किया, उसी उद्देश्य की निरंतरता के लिए समाधि मंदिर के स्वरूप में संजीवन ज्योत स्थापित है और आज भी अदृश्य शक्ति से भक्तों को आशीष प्रदान कर रहे हैं। माधवनाथ महाराज होलकर राज परिवार के भी गुरु है। उन्होंने भूतल परिवहन मंत्री गडकरी के पिता को दीक्षा दी थी। इन्दौर और उज्जैन में आगमन पर मंत्री गडकरी नाथ मंदिर भी दर्शन के लिए आते रहते हैं। यह बरसों से चला आ रहा है। नाथ मंदिर महाराष्ट्रीयन भक्तों के बीच विशेष आस्था का केंद्र है। दस वर्ष पहले अन्नपूर्णा भवन का उद्घाटन भी गडकरी ने किया था।
:: नाना महाराज के आश्रम भी पहुंचे ::
केन्द्रीय मंत्री गडकरी नाथ मंदिर में दर्शन से पूर्व स्नेहलतागंज स्थ‍ित नाना महाराज तराणेकर के आश्रम भी पहुंचे। हालांकि इस दौरान उन्होंने मीडिया से दूरी बनाए रखी। नाना महाराज के पोते संजय तराणेकर ने बताया कि गडकरी लंबे समय से आश्रम से जुड़े हुए हैं। उनका आने का कोई विशेष प्रयोजन नहीं था। यहां दर्शन के लिए आए हैं। उनकी माताजी भी यहां आती थीं।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201