Breaking
Rashtrapati Bhavan Visit: आम जनता के लिए आज से खुला राष्ट्रपति भवन डेमोक्रेट ने अपने हाउस कॉकस के नेता के रूप में अफ्रीकी अमेरिकी को चुना इस माह रिकॉर्ड 1.36 करोड़ आयुष्मान कार्ड बनाए गए योजना शुरु होने से सबसे ज्यादा  महान खिलाड़ी पेले सात महीने बाद फिर से हुए Hospitalized कार्यकर्ताओं ने बैनर, फ्लेक्स व पोस्टर से सजा चौराहा, एसपी ने कहा- सुसनेर मार्ग ​​​​​​​को खाली रखा ज...  कांग्रेस ने आदिवासी गरीब और वंचितों के नाम पर केवल राजनीति की है : अमित शाह आधा किलो अफीम बरामद; राजस्थान से सप्लाई करने सिटी आया था दो से तीन दिन पहले हत्या की आशंका; फोरेंसिक टीम के साथ पहुंची पुलिस शादी के कुछ घंटों के भीतर ही मशहूर सिंगर Jake Flint का निधन रुपये की मजबूती से सोना- चांदी हुए सस्ते

रूस-यूक्रेन जंग और विधानसभा चुनावों के नतीजे तय करेंगे शेयर बाजार की चाल

नई दिल्ली । ‎विश्लेषकों का कहना है ‎कि इस सप्ताह शेयर बाजार की चाल रूस-यूक्रेन युद्ध, वैश्विक शेयर बाजारों के रुझान, तेल की कीमतों और विधानसभा चुनावों के नतीजों पर निर्भर करेगी। इसके अलावा चीन और अमेरिका में मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर भी निवेशकों की नजर रहेगी। भू-राजनीतिक अनिश्चितता अभी भी बनी हुई है। इसके अलावा घरेलू स्तर पर 10 मार्च को विधानसभा चुनावों के नतीजे भी महत्वपूर्ण हैं। ‎विशेषज्ञों के मुता‎बिक वैश्विक स्तर पर रूस-यूक्रेन युद्ध एक महत्वपूर्ण कारक है, जो अस्थिरता का कारण बनेगा। इसके अलावा अमेरिका में मुद्रास्फीति के आंकड़े 10 मार्च को घोषित होंगे, जिस पर भी वैश्विक बाजारों की नजर रहेगी। उन्होंने कहा कि कमोडिटी की कीमतें बढ़ रही हैं। खासतौर से कच्चे तेल की कीमतें, जो 120 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल के करीब हैं, भारतीय बाजार के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है। इसलिए कच्चे तेल की कीमतों पर बाजार की नजर रहेगी। इस हफ्ते रूस-यूक्रेन संकट और कच्चे तेल पर इसके प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। इसके अलावा घरेलू मोर्चे पर प्रतिभागी 10 मार्च को पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणामों पर नजर रखेंगे। इसके अलावा 11 मार्च को आईआईपी के आंकड़े भी आने हैं। बीते सप्ताह तेल की ऊंची कीमतों और विदेशी निवेशकों की भारी बिकवाली के चलते घरेलू बाजारों में गिरावट का रुख रहा। पिछले सप्ताह सेंसेक्स 1,524.71 अंक टूट गया, जबकि निफ्टी 413.05 अंक गिरा। बाजार के जानकारों ने कहा ‎कि शेयर बाजार की दिशा भू-राजनीतिक तनाव से काफी प्रभावित होगी। युद्ध के दौरान जिंसों और कच्चे तेल की कीमतें आसमान छू रही हैं और मुद्रास्फीति के आंकड़े अमेरिकी फेडरल रिजर्व की अगली कार्रवाई में महत्वपूर्ण संकेतक बन सकते हैं।

Rashtrapati Bhavan Visit: आम जनता के लिए आज से खुला राष्ट्रपति भवन     |     डेमोक्रेट ने अपने हाउस कॉकस के नेता के रूप में अफ्रीकी अमेरिकी को चुना     |     इस माह रिकॉर्ड 1.36 करोड़ आयुष्मान कार्ड बनाए गए योजना शुरु होने से सबसे ज्यादा      |     महान खिलाड़ी पेले सात महीने बाद फिर से हुए Hospitalized     |     कार्यकर्ताओं ने बैनर, फ्लेक्स व पोस्टर से सजा चौराहा, एसपी ने कहा- सुसनेर मार्ग ​​​​​​​को खाली रखा जाएगा     |      कांग्रेस ने आदिवासी गरीब और वंचितों के नाम पर केवल राजनीति की है : अमित शाह     |     आधा किलो अफीम बरामद; राजस्थान से सप्लाई करने सिटी आया था     |     दो से तीन दिन पहले हत्या की आशंका; फोरेंसिक टीम के साथ पहुंची पुलिस     |     शादी के कुछ घंटों के भीतर ही मशहूर सिंगर Jake Flint का निधन     |     रुपये की मजबूती से सोना- चांदी हुए सस्ते     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201