Breaking
UP : चूहे की हत्‍या मामला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से केस में नया मोड़ अज्ञात वाहन की टक्कर से एक अभिभाषक की मौत, साथी युवक गंभीर घायल टॉयलेट में मोबाइल का इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक साइकिल चलाकर वोट डालने पहुंची सूरत की महापौर हेमाली बोघावाला 3 लाख 20 हजार रुपए जीते; कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय से की है पत्रकारिता की पढ़ाई वाराणसी, दिल्ली और बेंगलुरु एयरपोर्ट पर पैसेंजर का चेहरा ही होगा बोर्डिंग पास आप के बाद अब कांग्रेस ने लिखकर दिया गुजरात में आप को केवल ‘शून्य’ मिलेगा पुलिस की लोगों से अपील- एड्स संक्रमित मरीज से नहीं करें भेदभाव बस्ती में जल्द शुरू होगा एमआरआई जॉच...अब नहीं जाना पड़ेगा लखनऊ या गोरखपुर बिना बेहोश किए हाथ-पैर बांधकर किया ऑपरेशन

अधिकारी पर प्रताड़ित करने का आरोपः डिप्रेशन में आकर बाबू ने खाई नींद की गोलियां, गंभीर हालत में भोपाल रेफर

अशोकनगर। आदिम जाति कल्याण विभाग में स्टोर के सामान खरीदी की जांच करना विभाग के बाबू मनोज नामदेव को महंगा पड़ गया. उन्होंने जांच के दौरान अन्य कर्मचारियों द्वारा दिए गए लिखित जवाब में गड़बड़ी की आशंका जताई। साथ ही बाबू ने मामले की जांच किसी वरिष्ठ अधिकारी से कराने की बात कही, तो जिला संयोजक ने बाबू की भोपाल डाक ले जाने की ड्यूटी लगा दी, जिससे बाबू नामदेव तनाव में आ गए और उन्होंने नींद की गोलियों का सेवन कर लिया। बाद गंभीर हालत में बाबू को जिला अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया. जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें भोपाल रेफर किया गया है।

दरअसल, 3 माह पूर्व आदिम जाति कल्याण विभाग में जिला संयोजक के पद पर नरेंद्र रघुवंशी ने चार्ज लिया था. जिसके बाद उन्होंने लेखा शाखा का कार्य देख रहे मनोज नामदेव से केशबुक तैयार पर हस्ताक्षर कराने की बात कही. जब बाबू ने स्टॉक शाखा के कर्मचारियों से सामान खरीदी का लेखा-जोखा देने की बात कही, तब अलग ही मामला निकल कर सामने आया. स्टॉक शाखा के कर्मचारियों ने साफ तौर पर कह दिया कि हम यह शाखा जरूर देखे थे, लेकिन तत्कालीन जिला संयोजक विवेक नागवंशी हस्ताक्षर कराने के लिए हम पर दबाव बनाते थे. जिसके बाद हमने खरीदी सामग्री दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर दिए थे. इस तरह के जवाब के बाद जांच अधिकारी बनाए गए मनोज नामदेव ने मामले में गड़बड़ झाले की आशंका व्यक्त की. तो जिला संयोजक नरेंद्र रघुवंशी द्वारा उन्हें विधानसभा सत्र में डाक ले जाने की ड्यूटी लगा दी।

वहीं भोपाल ड्यूटी लगाने से बाबू मनोज नामदेव ने परेशान होकर आत्मघाती कदम उठाया। हालांकि जिला अस्पताल के आईसीयू वार्ड में तहसीलदार की मौजूदगी में पुलिसकर्मियों ने बाबू के बयान दर्ज कर लिए हैं. वहीं इस पूरे मामले में कलेक्टर आर उमा माहेश्वरी ने एडिशनल जिला पंचायत सीईओ और डिप्टी कलेक्टर से इस पूरे मामले की जांच करने की बात कही है।

UP : चूहे की हत्‍या मामला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से केस में नया मोड़     |     अज्ञात वाहन की टक्कर से एक अभिभाषक की मौत, साथी युवक गंभीर घायल     |     टॉयलेट में मोबाइल का इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक     |     साइकिल चलाकर वोट डालने पहुंची सूरत की महापौर हेमाली बोघावाला     |     3 लाख 20 हजार रुपए जीते; कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय से की है पत्रकारिता की पढ़ाई     |     वाराणसी, दिल्ली और बेंगलुरु एयरपोर्ट पर पैसेंजर का चेहरा ही होगा बोर्डिंग पास     |     आप के बाद अब कांग्रेस ने लिखकर दिया गुजरात में आप को केवल ‘शून्य’ मिलेगा     |     पुलिस की लोगों से अपील- एड्स संक्रमित मरीज से नहीं करें भेदभाव     |     बस्ती में जल्द शुरू होगा एमआरआई जॉच…अब नहीं जाना पड़ेगा लखनऊ या गोरखपुर     |     बिना बेहोश किए हाथ-पैर बांधकर किया ऑपरेशन     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201