Breaking
यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू  करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता

भारत ने अफगानिस्तान को तीन टन आवश्यक जीवन रक्षक दवाएं भेजीं, तालिबान के कब्जे के बाद से लगातार जारी है मानवीय सहायता

नई दिल्ली। तालिबान के कब्जे के बाद से अफगानिस्तान में भारत लगातार मानवीय सहायताएं भेज रहा है। इसी कड़ी में भारत ने अफगानिस्तान को 3 टन आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं से युक्त चिकित्सा सहायता के चौथे बैच की आपूर्ति की है। ये चिकित्सा सहायता आज काबुल के इंदिरा गांधी अस्पताल सौंप दी गई। यह जानकारी भारतीय विदेश मंत्रालय (MEA) ने दी है।

मंत्रालय ने कहा कि भारत पहले ही चिकित्सा सहायता के 3 शिपमेंट की आपूर्ति कर चुका है, जिसमें कोरोना वैक्सीन की 500,000 खुराक और अफगानिस्तान को आवश्यक जीवन रक्षक दवाएं शामिल हैं।

साथ ही कहा कि आने वाले हफ्तों में हम अफगानिस्तान के लोगों के लिए मानवीय सहायता के अधिक बैचों की आपूर्ति करेंगे जिसमें दवाएं और खाद्यान्न शामिल हैं।

संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान की मदद की अपील की

बता दें कि अभी हाल ही में अफगानिस्‍तान के हालातों पर संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंटोनिया गुतरेस ने चिंता व्‍यक्‍त करते हुए कहा था कि अफगानिस्‍तान एक धागे से लटका हुआ है जिसमें अफगानियों को छोड़ा नहीं जा सकता है। उन्‍होंने पूरी दुनिया से अपील करते हुए कहा कि सभी को अफगानियों के बेहतर भविष्‍य और उनकी मदद के लिए आगे ना चाहिए। उन्‍होंने यहां तक भी कहा कि अफगानिस्‍तान की मदद करना पूरे विश्‍व की सुरक्षा को भी बेहद जरूरी है।

गौरतलब है कि अगस्त 2021 में अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से वहां के हालात बहुत खराब हो गए हैं। तालिबान लड़ाकों ने महिलाओं और आम लोगों के खिलाफ कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं। इसके बाद से वहां के लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। अफगानिस्तान की आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है, यह देश भुखमरी के कागार पर पहुंच गया है।

यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन     |     पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद     |     एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव     |     इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू      |     करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन     |     बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल     |     मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201