Breaking
बकरी चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या सफल बनने के लिए रखें इन मंत्रों का ध्यान गुरुकुल स्कूल मडरिया रही विजेता, डीएफओ ने पुरस्कार देकर किया सम्मानित Business for College Students : कॉलेज स्टूडेंट्स पढ़ाई के साथ–साथ ये शानदान बिज़नेस करें, होगी तगड़ी कम... खुशखबरी: टाटानगर से पटना तक चलेगी तेजस एक्सप्रेस मां-बेटी-बेटे पर एसिड अटैक, 5 दिन बाद भी दर्ज नहीं हुई FIR आतंकी योग को 2 AK56, 1 पिस्टल और 1 टिफिन बम के साथ किया गिरफ्तार सरकार को दी चेतावनी, कहा- जल्द मांगें पूरी नहीं की तो करेंगे बड़ा आंदोलन जबलपुर होकर जाएगी पटना-सिकंदराबाद स्पेशल ट्रेन 27 अक्टूबर से 1070 एकड़ प्रोजेक्ट में राइट्स बढ़ाने की रखी डिमांड, IFSC-यूनिवर्सिटी का दिया प्रपोजल

कृषि बजट में होंगे किसानों की खुशहाली के भरपूर प्रावधान-सीएम

जयपुर । मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से किसानों, पशुपालकों, डेयरी संघों के पदाधिकारियों तथा जनजातीय क्षेत्र के प्रतिनिधियों के साथ बजट पूर्व संवाद को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि-बागवानी एवं पशुपालन सेक्टर राज्य की अर्थव्यवस्था की धुरी है। प्रदेश की करीब दो-तिहाई आबादी की आजीविका इस पर निर्भर करती है। इस क्षेत्र के महत्व को समझते हुए हमारी सरकार ने पहली बार अलग से कृषि बजट लाने जैसा ऐतिहासिक निर्णय किया है, जिसके माध्यम से प्रदेश के काश्तकारों तथा पशुपालकों की समृद्धि एवं खुशहाली के लिए आवश्यक प्रावधान किए जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान कल्याण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए हमने विगत तीन वर्षों में मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना, कृषक कल्याण कोष के गठन, मुख्यमंत्री दुग्ध उत्पादक संबल योजना, ऋण माफी, सहकारी फसली ऋण ऑनलाइन पंजीयन एवं वितरण योजना, राजस्थान कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय एवं कृषि निर्यात प्रोत्साहन नीति जैसे कई अहम फैसले लिए हैं, जो कृषि के क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव ला रहे हैं। गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार खेती-किसानी के साथ-साथ पशुपालन को भी भरपूर बढ़ावा देने का इरादा रखती है। हमारा प्रयास रहेगा कि जिलों में अधिक से अधिक दुग्ध संकलन केन्द्र तथा चिलिंग सेन्टर खुलें। दुधारू पशुओं की उन्नत नस्लों के संवर्धन एवं संरक्षण के सार्थक प्रयास किए जाएं जिससे कि दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में राजस्थान देश का अव्वल राज्य बने। उन्होंने कहा कि किसान राज्य सरकार की नीतियों का फायदा उठाकर अधिक से अधिक फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाएं। अपनी उपज का वैल्यू एडीशन करें और उन्हें निर्यात के लिए तैयार करें। इनसे उनकी आय बढ़ेगी और वे खुशहाल बनेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पानी की कमी और गिरते भूजल स्तर को देखते हुए राज्य सरकार बूंद-बूंद और फव्वारा सिंचाई पद्धति को बढ़ावा दे रही है। किसान इनका अधिकाधिक उपयोग कर जल संरक्षण में अपनी सहभागिता निभाएं। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास रहेगा कि कृषि क्षेत्र के लिए अलग से बिजली कंपनी बने। गहलोत ने कहा कि सिंचाई के लिए रात-रात भर जागने से किसानों को होने वाली तकलीफ का एहसास सरकार को है। अब 15 जिलों में किसानों को दिन में बिजली उपलब्ध होने लगी है। हमारा प्रयास है कि ट्रांसमिशन सिस्टम विकसित कर तथा बिजली की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कर मार्च 2023 से पूर्व प्रदेश के सभी जिलों में किसानों को पिलाई के लिए दिन में बिजली दी जाए।
 

बकरी चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या     |     सफल बनने के लिए रखें इन मंत्रों का ध्यान     |     गुरुकुल स्कूल मडरिया रही विजेता, डीएफओ ने पुरस्कार देकर किया सम्मानित     |     Business for College Students : कॉलेज स्टूडेंट्स पढ़ाई के साथ–साथ ये शानदान बिज़नेस करें, होगी तगड़ी कमाई     |     खुशखबरी: टाटानगर से पटना तक चलेगी तेजस एक्सप्रेस     |     मां-बेटी-बेटे पर एसिड अटैक, 5 दिन बाद भी दर्ज नहीं हुई FIR     |     आतंकी योग को 2 AK56, 1 पिस्टल और 1 टिफिन बम के साथ किया गिरफ्तार     |     सरकार को दी चेतावनी, कहा- जल्द मांगें पूरी नहीं की तो करेंगे बड़ा आंदोलन     |     जबलपुर होकर जाएगी पटना-सिकंदराबाद स्पेशल ट्रेन 27 अक्टूबर से     |     1070 एकड़ प्रोजेक्ट में राइट्स बढ़ाने की रखी डिमांड, IFSC-यूनिवर्सिटी का दिया प्रपोजल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201