Breaking
गन्ने के मूल्य में 10 रुपए की बढ़ोतरी, किसानों में खुशी की लहर अमेरिका में पुलिस की बर्बरता पर आक्रोश के बीच टायर निकोलस का अंतिम संस्कार मुख्यमंत्री चौहान ने दिल्ली के गणतंत्र दिवस समारोह में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले एन.सी.सी. कैडेट्स... शादी के बंधन में बंधने जा रही बॉलीवुड एक्ट्रेस चित्राशी रावत भूलकर भी यह दो दिन न जलाएं अगरबत्ती, वरना हो जाएंगे कंगाल भाजपा ने 4 सीटों पर फहराया जीत का परचम, 1 पर निर्दलीय का कब्जा, सपा नहीं खोल पाई खाता लव जिहाद और मतांतरण रोकने के लिए धर्मरक्षक बनाए जाएंगे, विहिप की बैठक में अनेक फैसले रॉकेट दागने के जवाब में इजराइल ने गाजा पर हवाई हमला किया मां बनी पंद्रह साल की बालिका ने बच्चे को अपनाने से किया इनकार महाकालेश्वर में 10 फरवरी से बदलेगा पूजा का समय

ईडी के सामने अनिल देशमुख ने माना अधिकारियों के ट्रांसफर के लिए बनाया जाता था दबाव

नई दिल्ली । महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख ने  ईडी के अधिकारियों को बताया कि राज्य मंत्री और शिवसेना नेता अनिल परब ने उन्हें एक लिस्ट दी थी, जिसमें उन अधिकारियों के नाम थे जिनका ट्रांसफर किया जाना था। उन्होंने कहा कि यह पूरी सूची अनाधिकारिक थी। अनिल देशमुख पिछले साल 2 नवंबर से न्यायिक हिरासत में हैं और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी उनसे पूछताछ कर रही है। जब देशमुख का दूसरा बयान रेकॉर्ड किया जा रहा था तो उनसे ट्रांसफर सूची के बारे में पूछा गया। देशमुख ने कन्फर्म किया कि महाराष्ट्र सरकार के मंत्री अनिल परब की तरफ से ही एक सूची मिली थी। इसके अलावा कोई लिस्ट नहीं दी गई। देशमुख ने बताया कि जो लिस्ट अनिल परब से मिली थी वह अनौपचारिक थी और इसपर किसी के भी हस्ताक्षर नहीं थे। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि परब को यह सूची शिवसेना के विधायकों और पार्षदों से मिली हो जो कि उन्होंने मेरे पास भेज दी। ईडी ने देशमुख से पूछा कि क्या उस अनाधिकारिक सूची को ही आधिकारिक बना दिया गया? इस पर उन्होंने कहा, यह लिस्ट अडिशनल चीफ सेक्रटरी को सौंप दी गई थी और कहा गया था कि नियमों को ध्यान में रखते हुए जरूरी कदम उठाए जाएं। देशमुख ने यह भी दावा किया कि एसीएस होम से कहा गया था कि इस बारे में पुलिस एस्टेब्लिशमेंट बोर्ड से भी चर्चा की जाए और अगर नियमों का उल्लंघन हो रहा है तो इसे रिजेक्ट कर दिया जाए।  बता दें कि सचिन वझे ने आरोप लगाया था कि 10 डीसीपी का ट्रांसफर वापस लेने के लिए अनिल परब और देशमुख ने 20 करोड़ रुपये लिए थे। ये ट्रांसफर ऑर्डर पूर्व कमिश्नर ऑफ पुलिस परमबीर सिंह की तरफ से जारी किए गए थे।
 

गन्ने के मूल्य में 10 रुपए की बढ़ोतरी, किसानों में खुशी की लहर     |     अमेरिका में पुलिस की बर्बरता पर आक्रोश के बीच टायर निकोलस का अंतिम संस्कार     |     मुख्यमंत्री चौहान ने दिल्ली के गणतंत्र दिवस समारोह में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले एन.सी.सी. कैडेट्स को किया सम्मानित     |     शादी के बंधन में बंधने जा रही बॉलीवुड एक्ट्रेस चित्राशी रावत     |     भूलकर भी यह दो दिन न जलाएं अगरबत्ती, वरना हो जाएंगे कंगाल     |     भाजपा ने 4 सीटों पर फहराया जीत का परचम, 1 पर निर्दलीय का कब्जा, सपा नहीं खोल पाई खाता     |     लव जिहाद और मतांतरण रोकने के लिए धर्मरक्षक बनाए जाएंगे, विहिप की बैठक में अनेक फैसले     |     रॉकेट दागने के जवाब में इजराइल ने गाजा पर हवाई हमला किया     |     मां बनी पंद्रह साल की बालिका ने बच्चे को अपनाने से किया इनकार     |     महाकालेश्वर में 10 फरवरी से बदलेगा पूजा का समय     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201