Breaking
“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता... विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ नहीं लड़ेंगी पल्लवी

नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मतदान में जहां अब एक सप्ताह का ही समय रह गया है, समाजवादी पार्टी गठबंधन में बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। सपा और अपना दल (कमेरावादी) के बीच दरार की खबरें सामने आ रही हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स यहां तक दावा किया जा रहा है कि अपना दल (के) की उम्मीदवार पल्लवी पटेल ने सिराथू से केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है। कहा जा रहा है कि पार्टी मानती है कि सपा ने अपनी तरफ से पल्लवी के नाम का ऐलान बीजेपी के एक दिग्गज उम्मीदवार के खिलाफ कर दी गई, जिनके खिलाफ जीतना आसान नहीं है। इस बीच अपना दल (कमेरावादी) के राष्ट्रीय महासचिव  गठबंधन टूटने की बात से तो इनकार किया, लेकिन विवाद की बात जरूर मानी। पंकज ने कहा कि पार्टी ने अपनी ओर से घोषित सभी 7 सीटों को अब सपा को सुपुर्द कर दिया है और अब सपा को फैसला लेना है। सिराथू से पल्लवी पटेल चुनाव लड़ेंगी या नहीं? इसके जवाब में पंकज ने कहा कि अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं है कि उनकी पार्टी कहां से लड़ेगी और कहां से नहीं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि मुद्दों के आधार पर उनकी पार्टी ने सपा को समर्थन दिया है और यदि एक भी सीट लड़ने को नहीं दी जाती है फिर भी वह गठबंधन के साथ बने रहेंगे। पंकज ने कहा, ”रणनीतिक तौर पर जो सीटें हमारे लिए तय हुईं थीं, लेकिन अब पार्टी में अधिक लोग आ गए हैं, ओवरफ्लो हो रहा है, कुछ और लोगों की वजह से कुछ असहजता है। इस लड़ाई और उद्देश्य के महत्व को देखते हुए अपनी तरफ से कहा है कि हम सभी सीटें आपको वापस करते हैं, आपको जिन भी सीटों पर सुविधा हो बता दें, लड़ लेंगे। एक भी सीट नहीं देंगे तो भी बिना सीट चुनाव लड़ लेंगे।” जौनपुर, बनारस, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, इलाहाबाद जैसी सीटों को लेकर विवाद हो रहा है। बाताया जा रहा है कि इन सीटों पर अपना दल कमेरावादी ने उम्मीदवार तय कर लिए थे, लेकिन अब सपा की ओर से इनपर फैसले लिए जाने से पार्टी नाराज है।

“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा     |     जन-जन को जोड़ें “महाकाल लोक” के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान     |     Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस     |     राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ     |     विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला     |     मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों ‘झूठ दिआं पंडां     |     कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा     |     करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा     |     स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित     |     दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201