Breaking
एक गिरफ्तार और दूसरा आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार, अवैध असलहे और उपकरण बरामद मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत् अब तक 16,538 लोगों का किया गया उपचा जानिए कैसे खरीदें सही टूथब्रश और कब बदलें गहलोत हाईकमान की नाराजगी से बचना चाहते हैं तो अध्यक्ष पद स्वीकारें 4 मासूम बच्चों की तालाब में डूबने से हुई मौत हर घर नल से जल पहुंचाने वाला पहला जिला बुरहानपुर, राष्ट्रपति के हाथों मिलेगा सम्‍मान दिल्ली के आनंद विहार से न्यू अशोक अशोक नगर तक बन रहीं 3 किमी लंबी दो टनल जेल में बंद निलंबित IAS पूजा सिंघल की तबीयत बिगड़ी निराधार 'तख्तापलट' की अफवाहों को खारिज करते हुए सार्वजनिक रूप से फिर से उभरे शी जिनपिंग सबसे पहले आरएसएस को बैन करिए : लालू प्रसाद

स्कूलों के बाद खुलीं आंगनबाड़ियां , शादी से भी हट सकती है पाबंदी

 भोपाल  । राज्य सरकार द्वारा गत 1 फरवरी से कक्षा 1 से 12वीं तक के स्कूल खोलने की अनुमति देने के बाद अब आंगनवाडियां खोलने का ऐलान भी कर दिया है। जिस तेजी से प्रदेश में कोरोना वायरस के मामले कम होते जा रहे हैं, उसी के मददेनजर कोरोना वायरस की पाबंदियों में ढील दी जा रही है। इसी तरह अगर कोरोना वायरस के मामले कम होते रहे तो संभव है शादी पर लगाई गई पाबंदियां भी कम हो जाए।राज्य सरकार ने आज से आंगनबाड़ी केंद्रों को भी खोल दिया है। गुरुवार से कोरोना प्रोटोकॉल के तहत प्रदेशभर में आंगनबाड़ी केंद्र खोले जा सकेंगे। इसके लिए महिला एवं बाल विकास विभाग ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश जारी कर दिए हैं। प्रदेश सरकार ने संकेत दिए हैं कि यदि कोरोना को लेकर यही स्थिति बनी रही, तो पाबंदियां जल्द ही कम की जा सकती हैं। इसमें शादी समारोह में 250 लोगों के शामिल होने की शर्त भी खत्म की जा सकती है। मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिविटी रेट में लगातार कमी आ रही है। क्राइसिस कमेटी के मेंबर डॉ. निशांत खरे का कहना है कि पाबंदियां दो प्रमुख बातों को ध्यान में रखकर कम की जाती हैं। पहली बात कि अप्रत्याशित तौर पर पॉजिटिव केस की संख्या न बढ़े। दूसरी यह कि संसाधन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहें। एक समय पर केस की संख्या से घटने-बढ़ने से ज्यादा असर नहीं पड़ता है। अभी हॉस्पिटल एडमिशन रेट बहुत कम हैं। यदि यह रेट कम रहता है और संसाधन उपलब्ध रहते हैं, तो निश्चित रूप से सख्ती कम की जा सकती है। वर्तमान स्थिति को देखते हुए शादी समारोह सहित अन्य चीजों में राहत दे सकते हैं। डॉ. खरे कहते हैं कि स्कूल कभी न कभी खुलने ही थे। इससे सबसे ज्यादा नुकसान बच्चों का हो रहा था। बाकी चीजें लगभग-लगभग खुली हैं। वर्तमान में जो पांबदिया हैं, उनको एनालिसिस कर समय अनुसार तय किया जा सकता है। बता दें कि बीते दिनों राज्य सरकार ने स्कूलों को पचास फीसदी छात्र-छात्राओं की उपस्थिति के साथ खोलने की अनुमति प्रदान कर दी है और अब आंगनबाडियां भी खोल दी गई है।
 

एक गिरफ्तार और दूसरा आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार, अवैध असलहे और उपकरण बरामद     |     मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत् अब तक 16,538 लोगों का किया गया उपचा     |     जानिए कैसे खरीदें सही टूथब्रश और कब बदलें     |     गहलोत हाईकमान की नाराजगी से बचना चाहते हैं तो अध्यक्ष पद स्वीकारें     |     4 मासूम बच्चों की तालाब में डूबने से हुई मौत     |     हर घर नल से जल पहुंचाने वाला पहला जिला बुरहानपुर, राष्ट्रपति के हाथों मिलेगा सम्‍मान     |     दिल्ली के आनंद विहार से न्यू अशोक अशोक नगर तक बन रहीं 3 किमी लंबी दो टनल     |     जेल में बंद निलंबित IAS पूजा सिंघल की तबीयत बिगड़ी     |     निराधार ‘तख्तापलट’ की अफवाहों को खारिज करते हुए सार्वजनिक रूप से फिर से उभरे शी जिनपिंग     |     सबसे पहले आरएसएस को बैन करिए : लालू प्रसाद     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201