Breaking
यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू  करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता

 तुलार पहाड़ पर सड़क बनाने का विरोध में नक्सलियों ने दी धमकी 

छत्तीसगढ़ के बस्तर में सक्रिय माओवादी इन दिनों लगातार प्रेस नोट जारी कर सरकार व पुलिस प्रशासन की चुनौती दे रहे हैं। नक्सलियों ने अब तक बीजापुर जन अदालत, नारायणपुर मुठभेड़, तेलंगाना में नक्सली हिड़मा के समर्पण, पत्रकारों पर वसूली, सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने सहित कई मुद्दों पर प्रेस नोट जारी किया है। बस्तर में नक्सलियों की माड़ डिवीजन कमेटी ने शुक्रवार को प्रेस नोट जारी कर सरकार के चमचों को सजा देने की खुली चेतावनी दी है।

माओवादियों की माड़ डिवीजन कमेटी द्वारा जारी प्रेस नोट में बस्तर के मंगनार से तुलार तक बनने वाली सड़क को लेकर नक्सलियों में आक्रोश जताया है। नक्सलियों ने कहा है कांग्रेस सरकार के दलाल तुलार पहाड़ को बेच रहे हैं। जो कतई बर्दाश्त नहीं होगा, तुलार पहाड़ बेचने वालों को जन अदालत लगाकर कड़ी सजा दी जाएगी। तुलार पहाड़ को लोग तुलार धाम के नाम से भी जानते हैं। नक्सलियों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि विकास के नाम पर सरकार सड़क बना रही है, जिससे लाखों पेड़-पौधों की बलि चढ़ा दी जाएगी। नक्सलियों ने यह भी कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इनके चमचे जल, जंगल, जमीन को खत्म करने में लगे हैं, जिन्हें सजा दी जाएगी।

नक्सलियों ने तुलार पहाड़ बेचने व सड़क बनाकर पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले ठेकेदार व मंगनार के पूर्व सरपंच मानकू राम, बारसूर के गद्दार जगत पुजारी व कांग्रेस सरकार के चमचे नेताओं को सबक सिखाने की बात लिखी है। नक्सलियों का आरोप है कि यह सभी अपने निजी स्वार्थ के लिए तुलार पहाड़ को पूंजीपतियों के हाथों सौंपना चाहते हैं। नक्सलियों ने यह भी कहा है कि जल, जंगल, जमीन आदिवासियों की है। सड़क बनने के बाद पुलिस यहां प्रवेश करेगी और मासूम आदिवासियों को नक्सली बताकर एनकाउंटर कर देगी।

यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन     |     पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद     |     एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव     |     इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू      |     करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन     |     बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल     |     मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201