Breaking
यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू  करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता

Lata Mangeshkar Passes Away: नहीं रहीं सुर-सम्राज्ञी लता मंगेशकर, मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली। Lata Mangeshkar Passes Away: भारत रत्न से सम्मानित दिग्गज गायिका लता मंगेशकर का आज 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में रविवार सुबह 8 बजकर 12 मिनट पर अंतिम सांस ली। उनकी मौत का कारण मल्टी ऑर्गेन फेलियर बताया जा रहा है।पिछले 29 दिनों से वो कोरोना से जंग लड़ रही थीं। देश के कोने-कोने में लता मंगेशकर के जल्द स्वस्थ होने के लिए यज्ञ किए गए, लेकिन फिर भी स्वर कोकिला जिंदगी की जंग जीत न सकीं और उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

भारतीय सिनेमा की लीजेंड्री गायिका लता मंगेशकर लगभग 29 दिनों से मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल की आईसीयू में भर्ती थीं। शनिवार को 92 वर्षीय गायिका की तबीयत ज्यादा बिगड़ गयी थी। उनका इलाज कर रहे डॉ. प्रतीत समदानी ने बताया था कि उन्हें एग्रेसिव थेरेपी दी जा रही है और वो इलाज को बर्दाश्त कर पा रही हैं। इसके कुछ घंटे बाद लता मंगेशकर की छोटी बहन दिग्गज गायिका आशा भोंसले उनका हालचाल जानने ब्रीच कैंडी अस्पताल पहुंची थीं।

शनिवार को अस्पताल से लौटते हुए आशा ने बताया था कि लता दीदी की हालत स्थिर है। लता जी की तबीयत नाजुक होने की खबर आने के बाद महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे एमएनएस के मुखिया राज ठाकरे भी उनका हालचाल जानने अस्पताल पहुंचे थे। वहीं, देर रात केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने लता मंगेशकर के परिजनों से मुलाकात की और उन तक पीएम नरेंद्र मोदी का शुभकामना संदेश पहुंचाया।

8 जनवरी को किया गया था अस्पताल में भर्ती

बता दें, भारत रत्न दिग्गज गायिका को 8 जनवरी को कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। शुरुआत में कोरोना के हल्के लक्षण देखे गये थे, मगर उम्र और दूसरी स्वास्थ्य समस्याओं को देखते हुए उन्हें आईसीयू में ही रखा गया था। चिकित्सकों को पूरा यकीन था कि लता जी ठीक हो जाएंगी, मगर उम्र के मद्देनजर उन्हें चिकित्सकों की निरंतर निगरानी में रखा गया था।

कोरोना से थीं संक्रमित

ब्रीच कैंडी अस्पताल से चिकित्सक प्रतीत समदानी लता मंगेशकर का इलाज कर रहे थे। 16 जनवरी को डॉ. प्रतीत ने बताया था कि लता मंगेशकर को देखभाल की जरूरत है, इसलिए वो कुछ और दिनों तक आईसीयू में डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगी। उनकी हालत पहले जैसी है और किसी को भी उनसे मिलने की इजाजत नहीं है। लता मंगेशकर कोरोना संक्रण के साथ निमोनिया से भी पीड़ित थीं।

बीच में हुआ था तबीयत में सुधार

बीच लता जी के स्वास्थ्य को लेकर मीडिया में अफवाहों को देखते हुए 22 जनवरी को उनके ट्विटर हैंडल से परिवार ने एक स्टेटमेंट भी जारी किया था, जिसमें किसी तरह के अनुमान ना लगाने की अपील लोगों से की गयी थी। 25 जनवरी को दिये गये हेल्थ अपडेट के अनुसार लता मंगेशकर के स्वास्थ्य में मामूली सुधार हुआ था।

29 दिनों से थीं बीमार

27 जनवरी को परिवार की ओर से ट्विटर पर साझा किये अपडेट में बताया गया था कि लता दीदी आईसीयू में हैं। उन्हें वेंटिलेटर से हटाने का ट्रायल दिया गया है। 29 जनवरी को डॉ. समदानी ने जानकारी थी कि लता जी की तबीयत में हल्का-सा सुधार हो रहा है और उन्हें वेंटिलेटर के हटाया गया था, मगर आईसीयू में ही चिकित्सकों की निगरानी में थीं। बता दें, इससे पहले लता मंगेशकर को सितंबर 2019 में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जब उन्हें सांस लेने में तकलीफ की शिकायत हुई थी। उस समय उन्हें वायरल चेस्ट इन्फेक्शन से पीड़ित थीं।

यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन     |     पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद     |     एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव     |     इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू      |     करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन     |     बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल     |     मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201