Breaking
“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता... विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

30 सैनिकों की जान बचाकर शहीद हुए थे रीवा के दीपक सिंह, अब लेफ्टिनेंट पत्नी भी करेगी देश की सेवा

रीवा के शहीद दीपक सिंह की पत्नी रेखा सिंह ने भी अपने पति की तरह देश सेवा की राह पकड़ ली हैं। 15 जून 2020 को गलवान घाटी में शहीद हुए लांस नायक दीपक सिंह की पत्नी रेखा इंडियन आर्मी का हिस्सा होंगी। उनका चयन कमीशंड ऑफिसर की रैंक पर हुआ है। प्रयागराज में SSB (सर्विस सिलेक्शन बोर्ड) का टेस्ट क्लीयर हो गया है। मेडिकल फॉर्मेलिटीज पूरी करने के बाद चेन्नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में लेफ्टिनेंट प्री कमीशन ट्रेनिंग करेंगी।

सेवानिवृत्त सैनिक प्रकाश सिंह ने बताया कि शहीद लांस नायक दीपक सिंह उनके छोटे भाई थे। दीपक की पत्नी रेखा ने पर्सनैलिटी ऑफ इंटेलिजेंस टेस्ट पास कर लिया है। रेखा MSC, B.ED, NCC-C पहले ही कर चुकी हैं। उनकी इच्छा थी कि पति की तरह वह भी देश सेवा करें।

शादी के 7 महीने में पति हो गए शहीद

रेखा रीवा के रायपुर कचुर्लियान ब्लॉक के जोगनहाई गांव की रहने वाली हैं। जिसकी 30 नवंबर 2019 को मनगवां के फरेहता गांव (रीवा) निवासी दीपक सिंह के साथ शादी हुई। 29 साल की रेखा की शादी के 7 महीने में पति दीपक सिंह शहीद हो गए। दो भाइयों में छोटे दीपक सिंह के पिता गजराज सिंह गांव में किसानी कर दोनों बच्चों की परवरिश की। 17 साल पहले बड़े बेटे प्रकाश सिंह गहरवार 75 आर्मड रेजीमेंट में भर्ती हुए थे। उन्होंने ही रिलेशन भर्ती निकलने पर छोटे भाई दीपक सिंह को आर्मी के मेडिकल कोर में जॉइनिंग दिलाई थी।

30 सैनिकों की जान बचाकर हुए शहीद

15-16 जून 2020 को भारत-चीन सीमा पर गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ इंडियन आर्मी का टकराव हुआ था। तब चिकित्सा कोर 16वीं बटालियन बिहार रेजीमेंट में तैनात लांस नायक दीपक सिंह नर्सिंग सहायक की ड्यूटी कर रहे थे। ऑपरेशन के दौरान घायलों को इलाज मुहैया करा रहे थे। उनको भी गंभीर चोटें आई थीं। फिर भी 30 सैनिकों की जान बचाई। इसके बाद शहीद हो गए।

24 नवंबर 2021 को मिला था वीर चक्र

शहीद दीपक सिंह को मरणोपरांत वीर चक्र से नवाजा गया। 24 नवंबर 2021 को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रेखा सिंह को वीर चक्र दिया। शहीद के पिता गजराज सिंह और भाई प्रकाश सिंह भी कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इनका सम्मान भी राष्ट्रपति की ओर से किया गया था। उस दिन रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शहीद के परिजन के साथ डिनर किया था। साथ ही CDS विपिन रावत भी शहीदों की याद में टी-पार्टी में सभी से मिले थे।

“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा     |     जन-जन को जोड़ें “महाकाल लोक” के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान     |     Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस     |     राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ     |     विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला     |     मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों ‘झूठ दिआं पंडां     |     कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा     |     करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा     |     स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित     |     दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201