Breaking
फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां

हमने 22 माह में एक लाख 76 हजार करोड़ रुपए किसानों के खातों में डालने का चमत्कार किया

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमने 22 माह में एक लाख 76 हजार करोड़ रुपए किसानों के खाते में डालने का चमत्कार किया है। यह किसानों की सरकार है, किसानों के कल्याण में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। प्रदेश में सिंचाई की योजनाओं का जाल बिछा कर प्रदेश के हर सूखे खेत में फसल लहलहाने के लिए राज्य सरकार निरंतर कार्यरत है। मुख्यमंत्री श्री चौहान बैतूल में राज्य स्तरीय फसल क्षति दावा राशि वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने किसानों के खाते में खरीफ 2020 और रबी 2020-21 की 49 लाख दावों में 7618 करोड़ रुपए की राशि का सिंगल क्लिक से अंतरित की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्या-पूजन तथा दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। केंद्रीय कृषि तथा किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने नई दिल्ली से वर्चुअली सहभागिता की। कार्यक्रम में प्रदेश के किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल, सांसद श्री दुर्गादास उइके अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कृषि, उद्यानिकी, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, ऊर्जा, आयुष, महिला-बाल विकास तथा स्व सहायता समूहों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री ने बैतूल के 381 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन भी किया। प्रदेश के समस्त जिलों ने कार्यक्रम में वर्चुअल सहभागिता की। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण डीडी एमपी, क्षेत्रीय चैनल, आकाशवाणी के साथ-साथ फेसबुक, ट्वीटर और यू-ट्यूब पर किया गया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में देश में सबसे बड़ी 7618 करोड़ रूपये की सहायता राशि का वितरण आज सिंगल क्लिक से किया गया है। इससे पूर्व भी फसलें खराब होने पर 2876 करोड़ रुपए किसानों के खाते में डाले गए थे। किसानों को राज्य सरकार द्वारा अब तक 10 हजार 494 करोड़ रुपए की सहायता राशि जारी की गई है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूर्व की सरकार ने बीमा कंपनियों को प्रीमियम की राशि नहीं दी थी। परिणामस्वरूप किसानों को बीमा की राशि नहीं मिल पाई। पूर्व की सरकारों ने फसल खराब होने पर सर्वे तक नहीं कराया, जबकि वर्तमान में राज्य सरकार ने केवल बैतूल जिले में ही एक लाख 28 हजार 474 किसानों को 306 करोड़ 78 लाख रुपए से अधिक राशि प्रधानमंत्री बीमा योजना में उपलब्ध कराई है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण देने के लिए बैंकों को 29 हजार 834 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए हैं। बिजली कनेक्शन पर प्रति मोटर 51 हजार रुपए का अनुदान राज्य सरकार द्वारा दिया जाता है। राज्य सरकार ने 47 हजार किसानों की ओर से बिजली कंपनियों को 30 हजार करोड़ रुपए उपलब्ध कराए हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का किसान सम्मान निधि उपलब्ध कराने के लिए आभार मानते हुए बताया कि प्रधानमंत्री ने केवल मध्य प्रदेश को इस योजना में 10 हजार 333 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए हैं। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी की प्रेरणा से ही राज्य सरकार द्वारा भी किसानों को 4 हजार रुपए किसान सम्मान निधि के रूप में उपलब्ध कराए गए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निश्चित रूप से छोटे किसानों के लिए 10 हजार रुपए संजीवनी के समान है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब तक 4 हजार 779 करोड़ रुपए किसानों के खाते में डाले जा चुके हैं। पिछले साल खरीफ की फसल में जो नुकसान हुआ था इसके लिए 2 हजार 876 करोड़ रुपए किसानों के खाते में डाले गए। सहकारी बैंकों की स्थिति सुधारने के लिए 800 करोड़ की राशि बैंकों को उपलब्ध कराई गई। खरीफ के लिए दो लाख 88 हजार से अधिक किसानों को उद्यानिकी फसलों के लिए 193 करोड़ रुपए फसल बीमा के रूप में दिए गए। सोलर पंप अनुदान योजना में 72 करोड़ रुपए किसानों की ओर से जमा किए गए। एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के अंतर्गत 1583 करोड़ रुपए का लोन बैंकों द्वारा दिया गया। गेहूँ, धान, ज्वार, चना, सरसों, मसूर, मूंग, उड़द और अन्य फसलों की खरीद पर किसानों के खाते में 75 हजार करोड़ रुपए डाले गए। यह 22 माह का हिसाब है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस प्रकार पिछले 22 महीनों में एक लाख 64 हजार 737 करोड़ रुपए किसानों के खातों में डाले गए हैं। इसमें यदि आज जारी हुई राशि को जोड़ दिया जाए तो किसानों के खातों में एक लाख 76 हजार करोड़ रुपए जारी किए गए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूर्व की सरकार ने किसानों का केवल 6000 करोड़ का ऋण माफ किया था। इसमें से भी आधे की जिम्मेदारी बैंकों और सोसाइटी पर डाल दी गई थी, परिणाम स्वरूप किसानों का ऋण माफ ही नहीं हुआ था।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में आगामी वर्षों में सिंचाई की व्यवस्था पर 66 हजार करोड़ रुपए खर्च करेंगी। एक-एक बूंद पानी का सही उपयोग सुनिश्चित करने के लिए नहरों की बजाए पाइप लाइन से पानी की आपूर्ति खेतों में की जाएगी, जिससे किसान स्प्रिंकलर और ड्रीप का उपयोग कर अपनी फसल लहलहा सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन-बेतवा लिंक परियोजना के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आभार माना। उन्होंने कहा कि इस परियोजना से बुंदेलखंड की तस्वीर और तकदीर बदल जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वर्ष 2024 तक नर्मदा जी के जल का शत-प्रतिशत उपयोग हमें सुनिश्चित करना है। इसके लिए प्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों के लिए सिंचाई परियोजनाएँ बनाई जा रही हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसान भाइयों को अवगत कराया कि बहुत जल्द ही राहत राशि किसानों के खाते में जारी की जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दो-दो कोरोना की लहर के बाद भी जनता के कल्याण और प्रदेश के विकास के कार्य को हमने प्रभावित नहीं होने दिया है। श्री चौहान ने प्रदेशवासियों को कोरोना के दोनों टीके लगवाने के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि जो व्यक्ति 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के हैं, वे बूस्टर डोज अवश्य लगवाएँ। उन्होंने प्रदेशवासियों को आवश्यक रूप से मास्क लगाने के लिए भी प्रेरित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में व्यापक रूप से टीकाकरण होने ही तीसरी लहर प्रभावी नहीं रही।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में नवाचार अपनाने की आवश्यकता है। श्री चौहान ने प्रदेश में प्राकृतिक खेती, ड्रोन के उपयोग को अपनाने के लिए किसानों को प्रेरित करते हुए कहा कि युवा वर्ग कस्टम हायरिंग सेंटर, कोल्ड स्टोरेज, गोडाउन आदि बनाने की ओर अग्रसर हों, राज्य सरकार द्वारा हर संभव सहायता की जाएगी। कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए भारत सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने की भी पहल युवाओं को करनी चाहिए। राज्य सरकार इस दिशा में भी पूरा सहयोग करेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सौर ऊर्जा उत्पादन के क्षेत्र में किसानों को आगे आना चाहिए। जिन किसान भाइयों की पथरीली जमीन है, वे यदि अपने खेत पर 2 मेगा वाट के सोलर संयंत्र लगाते हैं, तो राज्य सरकार उनसे लगभग 3.15 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली खरीदेगी और किसानों को बिजली की आपूर्ति भी सुनिश्चित होगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसान भाइयों से गाँव का गौरव दिवस मनाने की अपील भी की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केवल शहरों का ही मास्टर प्लान क्यों बने, गाँव वाले एक दिन तय करके अपने गांव का गौरव दिवस मनाएँ और गाँव की विकास योजना निर्धारित करें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला स्व सहायता समूहों के माध्यम से 2500 करोड़ रुपए महिलाओं को उपलब्ध कराए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह हमारा संकल्प है कि हर बहन की आय प्रतिमाह कम से कम 10 हजार रुपए होना चाहिए। महिलाओं की आमदनी बढ़ाने के लिए स्व-सहायता समूह को कई प्रकार के दायित्व सौंपे गए हैं। पोषण आहार उत्पादन के लिए भी स्व सहायता समूहों को जिम्मेदार बनाया जा रहा है। कृषि उत्पादों की खरीद से भी महिला स्व सहायता समूहों को जोड़ा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल जीवन मिशन से हर घर में नल से जल की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में आवासों का सर्वे कराया गया है। जिनके पास आवास नहीं है, उन्हें प्रधानमंत्री आवास प्लस में आवास उपलब्ध कराए जाएंगे। हर गरीब को अपना घर बनाने के लिए राशि उपलब्ध कराई जाएगी, कोई भी व्यक्ति कच्चे मकान में नहीं रहेगा। श्री चौहान ने कहा कि आपकी जिंदगी बदलने के लिए ही मैं मुख्यमंत्री बना हूँ।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में “राशन आपके ग्राम” योजना संचालित की जा रही है। ग्रामीणों को दूसरे गाँव राशन लेने नहीं जाना पड़ेगा। राज्य सरकार रोटी, कपड़ा और मकान, दवाई, पढ़ाई और रोजगार के इंतजाम के लिए अनेकों अभिनव योजनाएँ चला रही हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रतिमाह 2 लाख लोगों को रोजगार/स्व-रोजगार से लगाने के लिए अलग-अलग योजनाओं में गतिविधियाँ शुरू की जा रही हैं। आगामी 25 फरवरी को पुन: रोजगार दिवस में ऋण वितरण कार्यक्रम होगा। पिछली 12 जनवरी को 5 लाख 26 हजार लोगों को रोजगार दिया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि खाद्य प्र-संस्करण गतिविधियों को भी प्रोत्साहन दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार सीएम राइज स्कूल आरंभ कर रही है। यह स्कूल निजी स्कूलों से बेहतर होंगे। एक स्कूल के निर्माण पर 16 से 28 करोड़ रूपये तक का व्यय होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में भी होगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के गाँवों और संपूर्ण प्रदेश की जिंदगी बदलने के लिए सभी प्रदेशवासियों का सहयोग चाहिए। हम सभी मिलकर प्रदेश को और प्रदेशवासियों की जिंदगी को बदलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सबके सहयोग से हम मध्यप्रदेश को भारत का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम अपने गाँवों को साफ-स्वच्छ रखेंगे। बेटी के जन्म पर गाँव में आनंद का वातावरण हो। बेटा-बेटी के प्रति बराबरी का भाव हो। राज्य सरकार लाड़ली लक्ष्मी योजना-2 भी क्रियान्वित कर रही है।

केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने दिल्ली से वर्चुअल उद्बोधन में कहा कि आज का दिन मध्यप्रदेश के लिए ऐतिहासिक है। यह पहला अवसर है जब प्रदेश के 49 लाख से अधिक किसानों को 7618 करोड़ रुपए की फसल बीमा राशि उनके खातों में जमा की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के कुशल नेतृत्व में विगत 15 वर्षों से खेती और किसानी के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। श्री तोमर ने मुख्यमंत्री श्री चौहान की कृषि हितैषी नीतियों और किसानों के प्रति संवेदनशीलता के प्रति धन्यवाद् दिया।

केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि प्रदेश में निरंतर सिंचाईं की क्षमता और बिजली की उपलब्धता बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि उन्नत कृषि के क्षेत्र में प्रदेश अग्रणी है, जो हम सबके लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मिलकर प्रदेश के विकास के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। कृषि के क्षेत्र और गरीबी उन्मूलन के लिए नित नई योजनाएँ बनाई जाकर उन्हें लागू किया जा रहा है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों के लिए वरदान साबित हो रही हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों को सुरक्षा कवच प्रदान कर रही है। कम प्रीमियम देकर किसानों को अधिकाधिक लाभ मिल रहा है। खाद्यान्न, दुग्ध उत्पादन, बागवानी आदि सभी क्षेत्रों में मध्यप्रदेश उल्लेखनीय भूमिका निभा रहा है। केन्द्र सरकार कृषि के क्षेत्र में इन्फ्रा-स्ट्रक्चर विकसित करने के लिए प्रदेश को सहायता उपलब्ध करा रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को आज तकनीक से जोडऩे की आवश्यकता है। केन्द्र ने इसके लिए ड्रोन पॉलिसी जारी कर दी है। ड्रोन खरीदने की इच्छुक संस्थाओं को अनुदान भी उपलब्ध कराया जाएगा।

प्रदेश के किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि आज का दिन बैतूल ही नहीं, सम्पूर्ण मध्यप्रदेश और सम्पूर्ण भारत के किसानों के लिए ऐतिहासिक दिन है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के कुशल नेतृत्व में आज यहाँ इतिहास बन रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गाँव, गरीब और किसान हितैषी सरकार है। प्रधानमंत्री का किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प है। उनके संकल्प को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान के कुशल नेतृत्व में राज्य सरकार बखूबी अपनी भूमिका का निर्वहन कर रही है। किसानों को आरबीसी 6 (4) के तहत विभिन्न संशोधन कर कई लाभ प्रदान किए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश लगातार सात साल से कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त कर रहा है। यह सब प्रदेश के किसानों की मेहनत की वजह से ही संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि कृषि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की गिनती देश में नंबर वन राज्य के रूप में हो रही है। उन्होंने स्वामी दयानंद सरस्वती की जयंती पर उन्हें नमन करते हुए कहा कि स्वामी दयानंद सरस्वती ने अपना सर्वश्रेष्ठ दुनिया को देने का मंत्र दिया था। इस मंत्र का प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान अनुसरण कर प्रदेश को आगे बढ़ाने में लगे हुए हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाकर दुनिया में प्रदेश का नाम रोशन करने के लिए किसानों का भी सहयोग आवश्यक है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया हितलाभ का वितरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम के शुभारंभ के पूर्व विभिन्न विभागों की गतिविधियों पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने जिले के 381 करोड़ 35 लाख 89 हजार रुपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्या-पूजन भी किया। कृषि मंत्री श्री पटेल एवं अन्य अतिथियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत औषधीय पौधे भेंट कर किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान को स्वागत स्वरूप हल भी भेंट किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रतीक स्वरूप कुछ किसानों को फसल बीमा योजना की राशि के डमी चेक प्रदान किए। उन्होंने प्रतीक स्वरूप मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम, शहरी पथ विक्रेता, कोविड अनुग्रह राशि, आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन आदि के हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किए।

कार्यक्रम में सांसद श्री दुर्गादास उईके, विधायक डॉ. योगेश पंडाग्रे, प्रधान जिला पंचायत श्री सूरजलाल जावलकर, पूर्व सांसद श्री सुभाष आहूजा, श्रीमति ज्योति धुर्वे, श्री हेमंत खंडेलवाल, श्री पंकज जोशी, श्री दर्शनसिंह चौधरी, श्री आदित्य शुक्ला, पूर्व विधायक श्री शिवप्रसाद राठौर, श्री चंद्रशेखर देशमुख, श्रीमती गीता उईके, श्री मंगलसिंह धुर्वे सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री अजीत केसरी, कमिश्रर श्री मालसिंह, कलेक्टर श्री अमनवीर सिंह बैंस सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी और बड़ी संख्या में किसान भाई-बहन उपस्थित थे।

फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल     |     प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना     |     डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना     |     यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान     |     अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या     |     छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार     |     बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा     |     इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती     |     गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201