Breaking
अदाणी एंटरप्राइजेज ने वापस लिया 20 हजार करोड़ का  FPO, निवेशकों का पैसा किया जाएगा वापस... गोवा के विपक्ष के नेता ने विधायकों के मध्य प्रदेश के दौरे को बताया 'व्यर्थ खर्च' आरएसएस के महासचिव बोले, संघ न तो दक्षिणपंथी है, न ही वामपंथी सीएम शिवराज ने किया आइपीएस सर्विस मीट का शुभारंभ, पुलिस बल के जज्‍बे को सराहा ट्यूनीशिया ने आपात स्थिति को साल के अंत तक बढ़ाया बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 375 अंक ऊपर, निफ्टी 17700 के पास.... प्रदेश में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी 'आप', संगठन महामंत्री बोले- एक मौका केजरीवाल को दे दो मेघालय के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए बाइडेन के घर से से नहीं मिला कोई दस्तावेज : वकील नयनतारा ने कास्टिंग काउच को लेकर किए कई खुलासे

ABG Shipyard धोखाधड़ी पर निर्मला सीतारमण का बयान, कहा- बैंकों ने औसत से कम समय में पकड़ा फ्रॉड

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 22,842 करोड़ रुपये की एबीजी शिपयार्ड बैंक धोखाधड़ी (ABG Shipyard Fraud) में पहली शिकायत दर्ज कराने में लगे पांच साल का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि यह धोखाधड़ी औसत से कम समय में पकड़ी गई और इस मामले में कार्रवाई चल रही है। वित्त मंत्री ने कहा कि एबीजी शिपयार्ड को पूर्ववर्ती संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के कार्यकाल में कर्ज दिया गया था और कंपनी का खाता भी उसी के कार्यकाल में 30 नवंबर, 2013 को एनपीए (फंसा हुआ कर्ज) हुआ था। सभी कर्जदाता बैंकों द्वारा मार्च 2014 में कर्ज का पुनर्गठन किया गया था, लेकिन इससे कुछ फायदा नहीं हो सका।

वित्त मंत्री ने सोमवार को भारतीय रिजर्व बैंक के केंद्रीय बोर्ड के निदेशकों के साथ बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘इस मामले में बैंकों को श्रेय मिलेगा। उन्होंने इस तरह की धोखाधड़ी को पकड़ने के लिए औसत से कम समय लिया।’ उन्होंने कहा कि आमतौर पर बैंक इस तरह के मामलों को पकड़ने में 52 से 56 माह का समय लेते हैं और उसके बाद आगे की कार्रवाई करते हैं।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने देश के सबसे बड़े बैंक धोखाधड़ी मामले में एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड और उसके पूर्व चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ऋषि कमलेश अग्रवाल सहित अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह मामला आइसीआइसीआई बैंक की अगुवाई में करीब दो दर्जन बैंकों के गठजोड़ के साथ धोखाधड़ी के लिए दर्ज किया गया है।

एबीजी शिपयार्ड को ज्यादातर कर्ज 2006 से 2009 के बीच मिला

एबीजी शिपयार्ड कंपनी को 2013 से पहले ही कर्ज की ज्यादातर रकम मिल गई थी। बैंक घोखाधड़ी रोकने के लिए मौजूदा सरकार ने 2014 में नीति बनाई थी, जिसमें संदिग्ध खातों के फॉरेंसिक ऑडिट का प्रावधान किया गया था। उसके अगले साल से यह प्रक्रिया शुरू हो गई थी जो अभी भी जारी है।

नई नीति के तहत 50 करोड़ से अधिक बैंक के एनपीए खाते के फॉरेंसिक ऑडिट को अनिवार्य बनाया गया था और इसके लिए सीएमडी को जवाबदेह बनाया गया था। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, कंपनी के एनपीए हुए खातों में ज्यादातर कर्ज की रकम 2006 से 2009 के बीच में डाली गई थी।

अदाणी एंटरप्राइजेज ने वापस लिया 20 हजार करोड़ का  FPO, निवेशकों का पैसा किया जाएगा वापस…     |     गोवा के विपक्ष के नेता ने विधायकों के मध्य प्रदेश के दौरे को बताया ‘व्यर्थ खर्च’     |     आरएसएस के महासचिव बोले, संघ न तो दक्षिणपंथी है, न ही वामपंथी     |     सीएम शिवराज ने किया आइपीएस सर्विस मीट का शुभारंभ, पुलिस बल के जज्‍बे को सराहा     |     ट्यूनीशिया ने आपात स्थिति को साल के अंत तक बढ़ाया     |     बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 375 अंक ऊपर, निफ्टी 17700 के पास….     |     प्रदेश में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी ‘आप’, संगठन महामंत्री बोले- एक मौका केजरीवाल को दे दो     |     मेघालय के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए     |     बाइडेन के घर से से नहीं मिला कोई दस्तावेज : वकील     |     नयनतारा ने कास्टिंग काउच को लेकर किए कई खुलासे     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201