Breaking
फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां

Seoni News : मैदान पर मिट्टी की ईटों का चबूतरा बनाकर रखा जा रहा करोड़ों रुपये का धान

सिवनी। किसानों से खरीदा गया बेशकीमती करोड़ों रुपये का धान भंडारित करने जिले के गोदाम व ओपन कैप कम पड़ रहे हैं। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत मप्र वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के तकनीकी विभाग द्वारा मैदान पर मिट्टी की ईटों से चबूतरा (स्टेक) तैयार करवाकर इसमें लाखों क्विंटल धान का भंडारण किया जा रहा हैं। अधिकारियों का दावा है कि भंडारित धान का उठाव एक माह में कर लिया जाएगा। लेकिन जिले में साल 2019-20 में भंडारित करीब 8 लाख क्विंटल धान का तय समय में उठाव नहीं होने से सड़ कर खराब और बर्बाद हो चुका है। ऐसे में मिट्टी की ईटों पर भंडारित धान का उठाव एक माह में हो जाएगा, यह बात किसी के गले नहीं उतर रही है। जानकारों का कहना है कि समर्थन मूल्य पर उपार्जित सरकारी धान व गेहूं के निस्तारण (उपयोग) की विस्तृत योजना नहीं होने के कारण इस तरह की स्थिति हर साल जिले में निर्मित हो रही है। इस साल लगभग 48 लाख क्विंटल धान का उपार्जन किया गया है। वहीं साल पिछले साल 2020-21 में खरीदे गए 34 लाख क्विंटल धान में से करीब 14 लाख क्विंटल धान भंडारित है, जिसका मिलिंग कर चावल तैयार होना हैं। धान मिलिंग की अंतिम तिथि 28 फरवरी निर्धारित की गई है।

धान से भरे ट्रकों की लगी लाइन : हालात यह हैं कि जनवरी माह में उपार्जन कार्य पूरा हो चुका है। 15 फरवरी बीत जाने के बाद भी भंडारण का काम पूरा नहीं हो सका है। जिले के सभी वेयर हाउस गोदाम व अस्थाई ओपन कैप धान के भंडारण से भर चुके हैं। ऐसे में उपार्जित धान को रखने के लिए ओपन कैप के पास मौजूद खली जगह व मैदान पर ईटाें का चबूतरा तैयार कर धान का भंडारण किया जा रहा है। भंडारण स्थल पर बड़ी संख्या में समितियों से धान लेकर पहुंचे ट्रक चबूतरा के तैयार होने का इंतजार रहे हैं। ऐसा ही नजारा बुधवार को कारीरात ओपन कैप में दिखाई दिया। यहां पर 42 से ज्यादा चबूतरों का निर्माण ईटों से कराया जा चुका है। मौके पर मौजूद मप्र वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन तकनीकी विभाग जबलपुर के इंजीनियर राकेश कुमार वर्मा ने नईदुनिया को बताया कि ट्रक जैसे-जैसे धान लेकर पहुंचते जा रहे हैं, वैसे-वैसे चबूतरों की संख्या बढ़ाई जा रही है। एक चबूतरे के ऊपर तिरपाल बिछाकर करीब 110 से 120 मीट्रिक टन (1100 से 1200 क्विंटल) धान का भंडारण किया जा रहा है।

कहां कितनी संख्या में बन रहे चबूतरे : जिले में 5 लाख क्विंटल से ज्यादा धान का भंडारण ईट के कच्चे चबूतरा में किया जा रहा है। इसके अलावा कंक्रीट से बने अस्थाई ओपन कैप में लाखों क्विंटल धान का भंडारण कराया जा चुका है। जानकारी के मुताबिक फिलहाल गरठिया ओपन कैप में 10 हजार मीट्रिक टन के 80 चबूतरे (स्टेक) तैयार किए जा चुके हैं। देवरी नरेला में 13 हजार मीट्रिक टन, नरेला-1 में 7 हजार मीट्रिक टन, कारीरात में 10 हजार मीट्रिक टन, लखनादौन के पिपरिया जोबा में 7 हजार मीट्रिक टन, केवलारी मंडी में 7 हजार मीट्रिक टन, पलारी मंडी में 7 हजार मीट्रिक टन, सिवनी मंडी में 25 हजार मीट्रिक टन क्षमता के चबूतराें का निर्माण मिट्टी की ईटों से कराया जा रहा है।

दो लेयर में जमा रहे ईट : जबलपुर मप्र वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के तकनीकी विभाग से लघु निविदा पर बालाघाट सहित अन्य जिलों की अनेक एजेंसियों को ईट के चबूतराें को तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस पर कितनी राशि खर्च की जा रही है, इसकी जानकारी निर्माण करवा रहे सब इंजीनियर के पास भी नहीं है। मैदान में लेआउट देकर ईटों को दो लेयर में जमाया जा रहा है। ताकि भंडारित धान एक माह तक सुरक्षित रखा रहे। इंजीनियर वर्मा ने बताया कि करीब 1100 से 1200 क्विंटल के धान का भंडारण के लिए चबूतरे (स्टेक) को तैयार करने में 6 हजार से ज्यादा ईट का उपयोग किया जा रहा है।

इनका कहना है : साल 2019-20 में खराब हुए आठ लाख क्विंटल धान को नीलाम करने की प्रक्रिया अंतिम दौर में है। ईट के चबूतरों में भंडारित धान को एक माह में उठाने संबंधी योजना फिलहाल हमारे पास नहीं है। चबूतरों में भंडारित धान मिलिंग का कार्य प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले कराया जाएगा।

– विख्यात हिंडोलिया, जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम सिवनी

फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल     |     प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना     |     डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना     |     यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान     |     अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या     |     छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार     |     बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा     |     इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती     |     गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201