Breaking
“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता... विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

पश्चिम  बंगाल राज्यपाल ने ममता बनर्जी को लिखी चिट्ठी शेयर कर बोले जब चाहें राजभवन आ जाएं

नई दिल्ली । पश्चिम बंगाल में राज्यपाल जगदीप धनखड़ और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच अकसर तल्खी देखी जाती है। अब राज्यपाल ने ट्विटर पर एक पत्र शेयर किया है जो कि उन्होंने 15 फरवरी को ममता बनर्जी को लिखा था। इस पत्र में उन्होंने कहा था कि अगले सप्ताह मुख्यमंत्री जब चाहें राजभवन में बात कर  सकती हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने यह कहते हुए राज्यपाल के ट्विटर अकाउंट को ब्लॉक कर दिया था कि वह सरकारी अधिकारियों को अपना नौकर समझते हैं। 31 जनवरी को उन्होंने राजभवन के ट्विटर अकाउंट को  ब्लॉक कर दिया और कहा कि उन्हें असंवैधानिक बयानों की वजह से ऐसा करना पड़ गया। ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि राज्यपाल खुद को सबसे उच्च समझते हैं और सरकारी अधिकारियों को नौकर समझते हैं। इसके बाद धनखड़ ने भी कहा था कि ममता बनर्जी का यह कदम संविधान के खिलाफ है। यह सब तब हुआ जबकि गवर्नर ने बंगाल ग्लोबल समिट, मां कैंटीन, विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्ति, शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई से संबंधित मुद्दे उठाए थे। गवर्नर ने लेटर शेयर करते हुए कहा, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से निवेदन है कि उन्हें अगले सप्ताह जब भी सही लगे राजभवन आएं और बातचीत करें। एक संवैधानिक सरकार में राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच बातचीत जरूरी है। राज्यपाल ने कहा कि लंबे समय से जो लंबित मुद्दे हैं उनपर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है जबकि लोकतांत्रिक सरकार में यह जरूरी है।

“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा     |     जन-जन को जोड़ें “महाकाल लोक” के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान     |     Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस     |     राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ     |     विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला     |     मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों ‘झूठ दिआं पंडां     |     कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा     |     करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा     |     स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित     |     दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201