Breaking
फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां

रायबरेली में पिता की विरासत से कांग्रेस की सियासत को मात देंगी अदिति

रायबरेली । यूपी की रायबरेली सदर सीट पर सपा, भाजपा और कांग्रेस के बीच त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है। यह विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस का गढ़ माना जाता रहा है। दिवंगत कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह यहां से पांच बार विधायक रहे। अखिलेश की बेटी अदिति सिंह इस बार भाजपा की उम्मीदवार हैं, जो कि कांग्रेस की विधायक थीं। अदिति अपने पिता की मृत्यु के बाद पहला चुनाव लड़ रही हैं। वह खुद को ‘पिताहीन बेटी’ बताते हुए अपने पिता की विरासत का दावा करने की कोशिश में हैं। मनीष सिंह चौहान कांग्रेस की विरासत को बचाने की कोशिश करेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रतिनिधित्व का रायबरेली संसदीय क्षेत्र पार्टी के लिए राज्य की एकमात्र लोकसभा सीट है। कांग्रेस यहां से 10 बार विधानसभा चुनाव और जनता दल दो बार जीत चुकी है। भाजपा और सपा कभी यहां से नहीं जीती है। अदिति के खिलाफ कांग्रेस के चुनाव लड़ने वाले चौहान की भी राजनीतिक रसूख है। उनके चाचा आरपी सिंह ने एक बार अखिलेश सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा था। दूसरी ओर सपा ने आरपी यादव को मैदान में उतारा है। ब्राह्मणों, कायस्थों और मुसलमानों के प्रभुत्व वाले निर्वाचन क्षेत्र के साथ में यादवों और ओबीसी के बाद ब्राह्मण और मुस्लिम वोट भी निर्णायक होंगे। बीजेपी और कांग्रेस ब्राह्मण वोटों के लिए होड़ कर रहे हैं, जबकि मुसलमानों का एक वर्ग कांग्रेस को वोट दे सकता है, जिससे सपा को नुकसान हो सकता है, जो मुस्लिम-यादव समीकरण पर निर्भर है। ग्रामीण क्षेत्रों में यह सपा और भाजपा के बीच की लड़ाई है, जिसका कांग्रेस को नुकसान हो सकता है अखिलेश सिंह अपनी मजबूत प्रतिष्ठा के चलते कुछ ब्राह्मणों में अलोकप्रिय थे। हालांकि, उनकी बेटी की उम्मीदवारी के समय उन्होंने उसके साथ समझौता किया। एक बड़ा तबका बीजेपी को ‘फॉलो’ कर सकता है। एक फूल की दुकान के मालिक सर्वेश बाजपेयी ने कहा, “मैं एक अलग कांग्रेसी रहा हूं। पहली बार, मैं उम्मीदवार के कारण बीजेपी को वोट दूंगा।” वहीं,  चौहान को कुछ उत्साही कांग्रेस समर्थकों ने कमजोर बताते हुए खारिज कर दिया था। कांग्रेस समर्थक सिंह को वोट दे सकते हैं, लेकिन फिर भी 2024 में कांग्रेस को चुन सकते हैं, खासकर अगर वाड्रा चुनाव लड़ें।

फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल     |     प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना     |     डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना     |     यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान     |     अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या     |     छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार     |     बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा     |     इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती     |     गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201