Breaking
ईडी के समन पर बिफरे नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह, सुप्रीम कोर्ट में लगाएंगे केस  जो राम के अस्तित्व को नकारते थे वे अब राम नाम जप रहे हैं बसंत पर्व से हुआ 40 दिवसीय फाग महोत्सव का शुभारंभ अखिलेश यादव पर बरसे केशव प्रसाद मौर्य....कहा- बिना कुर्सी के उसी तरह तड़प रहे हैं, जिस तरह बिना पानी... बागेश्वर महाराज धीरेंद्र शास्त्री के समर्थन में उतरीं रूबी आसिफ खान, बोलीं- भारत को घोषित किया जाए ‘... मण्डलायुक्त ने दिया 3 शैक्षणिक संस्थाओं के मान्यता प्रपत्रों की जॉच कर रिपोर्ट देने का निर्देश भारत में जल्द लॉन्च होगा 'Coca-Cola' स्मार्टफोन, जानें शानदार फीचर्स… फिल्म 'पठान' बॉक्स ऑफिस पर 300 करोड़ पार छिंदवाड़ा में एक रुपये किलो में बिक रहा टमाटर टोल नाका कर्मचारियों पर भड़के सौंसर विधायक, अंदर कराने की दी धमकी

घर के मुखिया में होने चाहिए ये 5 गुण, परिवार रहेगा खुशहाल

आचार्य चाणक्य नीति:  आचार्य चाणक्य एक प्रसिद्ध कूटनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री और राजनीतिज्ञ के रूप में जाने जाते हैं। इनकी कूटनीतिज्ञता के कारण ही चंद्रगुप्त ने सम्राट का ताज पहना। आचार्य  चाणक्य ने अर्थशास्त्र के अतिरिक्त नीतिशास्त्र की रचना की। आचार्य द्वारा रचित नीतिशास्त्र वर्तमान समय के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। इसमें व्यक्ति को सामाजिक, व्यवसायिक, आर्थिक और कूटनीतिज्ञ नीतियों का इस्तेमाल की सलाह मिलती है। आचार्य चाणक्य का मानना है कि घर की तरक्की उसके मुखिया पर निर्भर करती है। यदि घर का मुखिया समझदार है तो वह हर परिस्थिति में अपने परिवार को साथ लेकर चलेगा। इसलिए घर के मुखिया में कुछ गुण अवश्य होने चाहिए। आचार्य चाणक्य के अनुसार घर के मुखिया में यदि ये  विशेष गुण न हो तो उस घर में कभी भी बरकत नहीं होती। आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य के इन गुणों के बारे में।

पैसे की बचत
आचार्य चाणक्य के अनुसार घर के मुखिया को पैसे की बचत करनी चाहिए। घर के मुखिया की जिम्मेदारी है कि वह पैसे की बचत करे ताकि भविष्य में जरूरत के समय उसे किसी के आगे हाथ न फैलाना पड़े।

अपने निर्णय पर रहे अडिग 
आचार्य चाणक्य के अनुसार परिवार तरक्की तभी करता है जब घर का मुखिया जो भी निर्णय ले उस पर अडिग रहे। घर में वह अनुशासित माहौल कायम रखे। ऐसा करने से ही घर के सदस्य तरक्की करेंगे।

न हो कान के कच्चे 
आचार्य चाणक्य के अनुसार घर के मुखिया को किसी भी बात पर बिना प्रमाण के भरोसा नहीं करना चाहिए। यानी घर का मुखिया कान का कच्चा नहीं होना चाहिए। यदि घर में कोई मनमुटाव चल रहा है तो दूं पक्षों को सुनकर फिर बात की पुष्टि करके ही मामला सुलझाने का प्रयास करना चाहिए।

निर्णय लेते समय सावधानी 
आचार्य चाणक्य के अनुसार घर का मुखिया जब भी कोई निर्णय ले उसे इस बात का भरोसा होना चाहिए कि उसके निर्णय से परिवार के किसी भी सदस्य को कोई हानि नहीं पहुंचेगी।

खर्चे पर नियंत्रण 
आचार्य चाणक्य के नीतिशास्त्र के अनुसार घर के मुखिया की जिम्मेदारी होती है कि वह घर को  जितनी कमाई हो उसके हिसाब से चलाए। ऐसे में बिना वजह के खर्चों पर काबू रखना चाहिए। यदि घर का मुखिया ऐसा नहीं करता है तो उसे आर्थिक संकट झेलना पड़ सकता है।

ईडी के समन पर बिफरे नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह, सुप्रीम कोर्ट में लगाएंगे केस     |      जो राम के अस्तित्व को नकारते थे वे अब राम नाम जप रहे हैं     |     बसंत पर्व से हुआ 40 दिवसीय फाग महोत्सव का शुभारंभ     |     अखिलेश यादव पर बरसे केशव प्रसाद मौर्य….कहा- बिना कुर्सी के उसी तरह तड़प रहे हैं, जिस तरह बिना पानी के मछली     |     बागेश्वर महाराज धीरेंद्र शास्त्री के समर्थन में उतरीं रूबी आसिफ खान, बोलीं- भारत को घोषित किया जाए ‘हिंदू राष्ट्र’     |     मण्डलायुक्त ने दिया 3 शैक्षणिक संस्थाओं के मान्यता प्रपत्रों की जॉच कर रिपोर्ट देने का निर्देश     |     भारत में जल्द लॉन्च होगा ‘Coca-Cola’ स्मार्टफोन, जानें शानदार फीचर्स…     |     फिल्म ‘पठान’ बॉक्स ऑफिस पर 300 करोड़ पार     |     छिंदवाड़ा में एक रुपये किलो में बिक रहा टमाटर     |     टोल नाका कर्मचारियों पर भड़के सौंसर विधायक, अंदर कराने की दी धमकी     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201