Breaking
RBI ने रेपो रेट में बढ़ोतरी का किया एलान, होम लोन की EMI में होगा इजाफा.. सिवनी में कार को ट्रक ने टक्कर मारी, 4 की मौत वरुण ग्रोवर द्वारा निर्देशित 'ऑल इंडिया रैंक' का हुआ इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ रॉटरडैम में वर्ल्ड ... LIC का पैसा अडानी की कंपनी में क्यों डाला गया? PM के साथ क्या रिश्ता है? : लोकसभा में प्रधानमंत्री म... कुछ पार्टियां बाल विवाह के नाम पर साम्प्रदायिकता फैलाने की कोशिश कर रही हैं : एनसीपीसीआर चीफ दिल्ली हाईकोर्ट ने महिला कैदी के वर्जिनिटी टेस्ट को माना असंवैधानिक, जानें क्या कहा? संसद में अचानक सोनिया गांधी की बिगड़ी तबीयत, मां को बेचैन होते देख राहुल गांधी ने पिलाया पानी बाबा भोलेनाथ के दर्शन का बना रहे हैं मन तो इन शिव मंदिरों में जरूर जाएं कर्नाटक देश की लगभग 50 फीसदी नवीकरणीय ऊर्जा उत्पन्न करता है : बोम्मई केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में चार फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती है सरकार

सुशील मोदी ने इंडिया गेट पर नेताजी की प्रतिमा लगाने के फैसले को बताया ऐतिहासिक, PM को दी बधाई

पटनाः बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने दिल्ली में इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा लगाने के फैसले को ऐतिहासिक बताया और इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी।

सुशील मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि स्वाधीनता के 75 वें वर्ष में दिल्ली के इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की विशाल प्रतिमा स्थापित करने के निर्णय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई। नेताजी की 28 फुट ऊंची प्रतिमा वहीं लगेगी, जहां आजादी के 21 साल बाद तक जार्ज पंचम की प्रतिमा लगाए रखी गई थी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने गणतंत्र दिवस समारोहों की शुरुआत 24 जनवरी के बजाय अब से नेताजी की जयंती 23 जनवरी से करने का भी निर्णय किया। मोदी ने कहा कि जब पश्चिम बंगाल में अभी कोई बड़ा चुनाव नहीं है, तब प्रधानमंत्री के इस निर्णय से उन लोगों को आश्चर्य होगा, जो देशभक्ति नहीं, केवल राजनीति समझते हैं।

भाजपा सांसद ने कहा कि वर्ष 1971 के युद्ध में विजय और बंग्लादेश बनने के बाद इंडिया गेट पर जो अमर जवान ज्योति जलाई गई थी, उसका पूरे सैनिक सम्मान के साथ वहां से मात्र 400 मीटर पर बने भव्य राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की ज्योति में विलय किया गया। अब तक के सभी युद्धों में शहीद सभी भारतीय सैनिकों के सम्मान में एक ‘युद्ध स्मारक, एक ज्योति’ की नीति का पूर्व सैनिकों ने भी स्वागत किया। उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्यवश, राहुल गांधी ज्योति विलय को ‘ज्योति बुझाना’ समझ रहे हैं।’

सुशील मोदी ने कहा कि अंग्रेजों ने प्रथम विश्वयुद्ध में मारे गए ब्रिटिश इंडियन आर्मी के जवानों की स्मृति में इंडिया गेट पर उनके नाम अंकित कराए। 1972 में कांग्रेस सरकार ने वहां 1971 युद्ध के शहीदों की स्मृति में अमर जवान ज्योति जलवायी, लेकिन वहां शहीद सैनिकों के नाम नहीं जोड़े गए। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में अब तक के सभी शहीदों को याद किया गया है।

RBI ने रेपो रेट में बढ़ोतरी का किया एलान, होम लोन की EMI में होगा इजाफा..     |     सिवनी में कार को ट्रक ने टक्कर मारी, 4 की मौत     |     वरुण ग्रोवर द्वारा निर्देशित ‘ऑल इंडिया रैंक’ का हुआ इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ रॉटरडैम में वर्ल्ड प्रीमियर     |     LIC का पैसा अडानी की कंपनी में क्यों डाला गया? PM के साथ क्या रिश्ता है? : लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी पर गरजे राहुल गांधी     |     कुछ पार्टियां बाल विवाह के नाम पर साम्प्रदायिकता फैलाने की कोशिश कर रही हैं : एनसीपीसीआर चीफ     |     दिल्ली हाईकोर्ट ने महिला कैदी के वर्जिनिटी टेस्ट को माना असंवैधानिक, जानें क्या कहा?     |     संसद में अचानक सोनिया गांधी की बिगड़ी तबीयत, मां को बेचैन होते देख राहुल गांधी ने पिलाया पानी     |     बाबा भोलेनाथ के दर्शन का बना रहे हैं मन तो इन शिव मंदिरों में जरूर जाएं     |     कर्नाटक देश की लगभग 50 फीसदी नवीकरणीय ऊर्जा उत्पन्न करता है : बोम्मई     |     केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में चार फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती है सरकार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201