यमुना की सफाई के लिए बड़े सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण, बेहतर होगी पानी की गुणवत्ता

नई दिल्ली| दिल्ली में यमुना नदी को साफ करने के लिए भारत के सबसे बड़े सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का निर्माण किया जा रहा है। केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय के मुताबिक दिल्ली में यमुना नदी की सफाई के लिए बनाए जा रहे ये सीवर ट्रीटमेंट प्लांट न केवल भारत बल्कि पूरे एशिया में सबसे बड़े सीवर ट्रीटमेंट प्लांट हैं। यह ट्रीटमेंट प्लांट शुरू होने के बाद सीवर का पानी यमुना नदी में जाने से रोका जा सकेगा। यमुना की सफाई के लिए यह बड़े कदम केंद्र सरकार के नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत उठाए गए हैं। केंद्र सरकार का कहना है कि अब आने वाले अगले कुछ ही महीनों के अंदर इस पहल के नतीजे देखने को मिलेंगे और दिल्ली में यमुना पहले के मुकाबले कहीं अधिक स्वच्छ हो सकेगी। गंगा नदी की सहायक नदियों की सफाई, विशेष रूप से यमुना नदी का कायाकल्प नमामि गंगे कार्यक्रम के प्रमुख उद्देश्यों में से एक है। दिल्ली के कोरोनेशन पिलर पर हाल ही में 318 एमएलडी क्षमता का एसटीपी चालू किया गया है जबकि यमुना की अविरलता और निर्मलता को सुनिश्चित करने के लिए नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत 3 अन्य मुख्य एसटीपी को दिसंबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इनमें रिठाला, कोंडली और ओखला शामिल हैं, जो एशिया के सबसे बड़े एसटीपी में से एक हैं। इन परियोजनाओं के पूरा होने से नालों से यमुना में जाने वाले सीवेज को रोकने में मदद मिलेगी।

नमामि गंगा कार्यक्रम के तहत दिल्ली में यमुना के तट पर नियमित सफाई अभियान फरवरी 2022 से हर महीने के चौथे शनिवार और महीने के एक महत्वपूर्ण दिन पर गैर सरकारी संगठनों और अन्य हितधारकों की मदद से चलाया जा रहा है। जी. अशोक कुमार, महानिदेशक, राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी), ने कहा, “हम खासकर दिल्ली में यमुना नदी की सफाई पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। वर्ष 2022 में दिल्ली में 1300 एमएलडी से अधिक की सीवेज उपचार क्षमता बनाने के लिए एनएमसीजी की एसटीपी परियोजनाओं के पूरा होने के साथ, आने वाले महीनों में पानी की गुणवत्ता में एक स्पष्ट अंतर देखा जाएगा। हम चाहते हैं कि दिल्ली के लोग यमुना नदी पर गर्व करें।”

कुमार ने कहा कि पिछले एक साल में नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत परियोजनाओं ने गति पकड़ी है और गंगा बेसिन में 2022 तक लगभग 1300 एमएलडी की उपचार क्षमता पूरी होने की उम्मीद है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रतिपादित अर्थ गंगा अवधारणा के बारे में भी बात की और कहा कि प्राकृतिक खेती को बड़े पैमाने पर बढ़ावा देने सहित कई पहल की जा रही हैं।

डीजी, एनएमसीजी ने यह भी बताया कि अर्थ गंगा के तहत नदी के किनारे गंगा आरती आयोजित करने की पहल भी बड़े पैमाने पर चल रही है। स्वच्छता दिवस के अवसर पर सहकार भारती के सहयोग से दिल्ली के सुर घाट पर एनएमसीजी द्वारा ‘यमुना आरती’ का आयोजन किया गया है।

गांधी जयंती और स्वच्छ भारत दिवस के अवसर पर भी जी. अशोक कुमार ने दिल्ली में आईटीओ छठ घाट पर सहयोगी गैर सरकारी संगठनों, दिल्ली जल बोर्ड, दिल्ली नगर निगम, छात्र, गंगा विचार मंच, स्वयंसेवक आदि के सहयोग से एक स्वच्छता अभियान का नेतृत्व किया।

छठ घाट के पूरे हिस्से की सफाई स्वच्छता अभियान के दौरान की गई। इसमें भाग लेने वाले गैर सरकारी संगठनों में एसवाईए, वाईएसएस, ट्री क्रेज फाउंडेशन, भारतीयम, एफओवाई, आरवाईएफ, टाटा कंसल्टिंग इंजीनियर्स लिमिटेड, यूबीएसएस आदि शामिल थे।

राज्य सरकार ने सबका साथ सबका विकास पर काम किया : वित्त मंत्री देवड़ा     |     मुख्यमंत्री चौहान ने बॉटल ब्रश, आम और कचनार के पौधे लगाए     |     चमकाने के बहाने जालसाज फिर जेवर लेकर हुए फरार     |     मुख्यमंत्री चौहान ने संत रविदास की जयंती पर नमन किया     |     जनता की जिन्दगी बदलने का अभियान है विकास यात्रा : मुख्यमंत्री चौहान     |     परवेज मुशर्रफ का 79 वर्ष की उम्र में हुआ निधन     |     अब 15 मिनट में खुलेंगे किसानों के खाते     |     कराची में अहमदी समुदाय की मस्जिद में उपद्रवियों ने की तोड़फोड़     |     भाषा और धर्म के आधार पर देश को बांटा जा रहा : कमलनाथ     |     कर्नाटक में कांग्रेस ने ‘प्रजा ध्वनि यात्रा’ शुरू की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201