शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं, प्रोफेसर लिए बड़ी खबर, गेस्ट लेक्चर से कमाई पर देना होगा 18% GST

लाखों फ्रीलांसर, शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं, प्रोफेसर के लिए एक परेशान करने वाली खबर है। अतिथि के रूप में व्याख्यान यानी गेस्ट लेक्चर से हुई कमाई पर 18 फीसद का माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लगेगा। यह व्यवस्था दी है एडवांस रूलिंग ऑथोरिटी (एएआर) की कर्नाटक पीठ ने। तकनीकी और कारोबारी सेवाओं के तहत आता है गेस्ट लेक्चरआवेदक साईराम गोपालकृष्ण ने एएआर से संपर्क कर पूछा था कि क्या अतिथि व्याख्यान से हुई आमदनी करयोग्य सेवाओं में आती है। एएआर ने यह आदेश पारित करते हुए कहा कि इस तरह की सेवाएं अन्य पेशेवर, तकनीकी और कारोबारी सेवाओं के तहत आती हैं और ये सेवाओं की छूट वाली श्रेणी के तहत नहीं हैं। ऐसे में इस प्रकार की सेवाओं पर 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी देना होगा। एएआर के इस आदेशानुसार सेवा पेशेवर, जिनकी आमदनी 20 लाख रुपये से अधिक होगी उन्हें अतिथि के रूप में व्याख्यान से हुई कमाई पर 18 प्रतिशत जीएसटी देना होगा।

पत्नी की हत्या करने वाले पति को आजीवन कारावास     |     कैसे करें कोचिंग सेंटर की स्थापना | Coaching Center Business in hindi     |     इस कारण बच्चों को नहीं लगती भूख     |     इस प्रकार मिलेगी नौकरी और कारोबार में सफलता     |     आपके पास पर्याप्त समय है, इसका सही उपयोग करे, कट एंड पेस्ट कर रिसर्च कार्य न करें     |     IED ब्लास्ट की चपेट में आकर CRPF जवान शहीद     |     डायबिटीज़ के मरीज़ ये फल ज़रूर खाए     |     46 करोड़ है मकान की लागत, 7 सितंबर को हुई थी कार्रवाई     |     भगवान राम ने तोड़ा शिव धनुष, लक्ष्मण और परशुराम संवाद पर भाव-विभोर हुए लोग     |     चायपत्ती के बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Tea Bag Making Business Plan In Hindi     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201