Breaking
कानपुर में बड़ा हादसा जनपद में हुए दर्जनों कार्यक्रम, सांसद रह चुके हैं नरेश अग्रवाल समाज में उल्लेखनीय योगदान के लिए ’पद्मश्री मदन चौहान और पद्मश्री शमशाद बेगम सहित 16 वरिष्ठ नागरिक हु... मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पंडरिया में 68 करोड़ 87 लाख रूपए के 81 कार्यो का किया लोकार्पण और भूमिपूजन 85 मामलों में जब्त की थी हेरोइन, चरस, गांजा और नशीली गोलियां, वीडियो-फोटोग्राफी हुई अशोक गहलोत फिर दिखाएंगे जादू या सचिन पायलट बनेंगे मुख्यमंत्री, क्या होगा सोनिया गांधी का फैसला? कबाड़ी दुकान में चोरी के बाद बदमाशों ने लगाई आग ट्यूशन टीचर ने बच्ची को गर्म चिमटे से जलाया धरती से निकली हैं धमतरी की मां विंध्यवासिनी, देश विदेश से दर्शन करने आते हैं श्रद्धालु दिसंबर 2023 तक हर भारतीय के लिए 5जी लाएगी जियो : मुकेश अंबानी

महिला को एक-एक निवाला गले से उतारना होता है दुश्वार

लंदन । ब्रिटिश महिला निकोलेट बेनेट 37 साल की उम्र में भी बच्चों जितना वजन रखती हैं। कॉर्नवेल की रहने वाली निकोलेट की स्थिति ये है कि वो अपनी ज़िंदगी कभी ठीक तरह से शुरू ही नहीं कर पाईं। उन्हें एक ऐसी बीमारी है, जिसके चलते उनका एक-एक निवाला गले से उतारना दुश्वार रहता है। उनकी आंत और किडनी इतनी सिकुड़ चुकी है कि उनके पेट में एक टुकड़ा जाते हुए भी पेट बिल्कुल भरा-भरा महसूस होता है। उनकी स्थिति ये है कि बच्चों की जेली भी खाने से उनकी आंतें फटने जैसी लगने लगती हैं।
 एक रिपोर्ट के मुताबिक निकोलेट बेकर को सुपीरियर मैसेंटरिक आर्टेरी सिंड्रोम यानि एसएमएएस नाम की बीमारी है। इसकी शुरुआत 10 साल पहले ही हो गई है, जिसने उनकी आंत और किडनी जैसे अंगों को काफी संकुचित कर दिया। जब भी निकोलेट खाने के बारे में सोचती हैं तो उन्हें अकल्पनीय दर्द होने लगता है। उन्हें सालों तक लोगों ने कुपोषित समझा और ज़बरदस्ती खिलाने की कोशिश की क्योंकि उनका वज़न सिर्फ 21 किलोग्राम तक रह गया था। निकोलेट की इस बीमारी ने न तो उन्हें करियर की शुरुआत करने दी और न ही परिवार की। 
ज़िंदगी में इतना कुछ सहने के बाद भी बेकर की जीने की इच्छा खत्म नहीं हुई है। उन्हें ऑपरेशन के लिए 80 लाख रुपये की ज़रूरत है, जिसमें से 70 लाख जमा हो चुके हैं और 10 लाख की व्यवस्था होनी है। डॉक्टरों ने उनकी सर्जरी के लिए हामी भर दी है और उन्हें डॉक्टरों की देखभाल में रहना होगा। निकोलेट को उम्मीद है कि उनकी कोशिश और हौसला रंग लाएगा और वे दोबारा एक सामान्य ज़िंदगी जी पाएंगी। बता दें कि खाने-पीने में अगर इंसान तसल्ली से स्वाद न ले सके, तो शरीर पर पोषण लगता ही नहीं है।
 

कानपुर में बड़ा हादसा     |     जनपद में हुए दर्जनों कार्यक्रम, सांसद रह चुके हैं नरेश अग्रवाल     |     समाज में उल्लेखनीय योगदान के लिए ’पद्मश्री मदन चौहान और पद्मश्री शमशाद बेगम सहित 16 वरिष्ठ नागरिक हुए सम्मानित     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पंडरिया में 68 करोड़ 87 लाख रूपए के 81 कार्यो का किया लोकार्पण और भूमिपूजन     |     85 मामलों में जब्त की थी हेरोइन, चरस, गांजा और नशीली गोलियां, वीडियो-फोटोग्राफी हुई     |     अशोक गहलोत फिर दिखाएंगे जादू या सचिन पायलट बनेंगे मुख्यमंत्री, क्या होगा सोनिया गांधी का फैसला?     |     कबाड़ी दुकान में चोरी के बाद बदमाशों ने लगाई आग     |     ट्यूशन टीचर ने बच्ची को गर्म चिमटे से जलाया     |     धरती से निकली हैं धमतरी की मां विंध्यवासिनी, देश विदेश से दर्शन करने आते हैं श्रद्धालु     |     दिसंबर 2023 तक हर भारतीय के लिए 5जी लाएगी जियो : मुकेश अंबानी     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201