Breaking
यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू  करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता

सतह पर आई राजस्थान भाजपा की अंतर्कलह, वसुंधरा की नाराजगी पर पूनिया ने पूछा किसने कराई क्रॉस वोटिंग?

जयपुर । कांग्रेस के बाद राजस्थान भाजपा में भी कलह शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे अब अपनी ही पार्टी भाजपा से नाराज हो गई हैं। राजे ने जयपुर में भाजपा विधायक दल की बैठक में नाराजगी जाहिर की। नाराजगी वजह है एक महीने पहले पंचायत चुनाव में वसुंधरा के बेटे और बारां सांसद दुष्यंत सिंह के दफ्तर पर भाजपा कार्यकर्ताओं की तोड़फोड़।
राजे द्वारा उठाए गए सवाल पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने चुप्पी तोड़ी है। विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बातचीत में पूनिया ने कहा पूरा प्रकरण बारां जिला प्रमुख चुनाव में हुई क्रॉस वोटिंग से जुड़ा है। प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह की जानकारी में पहले से ही है। यह घटना क्रॉस वोटिंग से संबंधित थी। क्रॉस वोटिंग किसके इशारे पर और क्यों हुई, ये जांच का विषय था। उसकी प्रतिक्रिया में जो हुआ वह भी पूरी तरह गलत था। दोनों ही पक्ष इस मामले में गलत है। पूरे घटनाक्रम की जांच रिपोर्ट प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह के सामने पेश होगी, क्योंकि ये महत्वपूर्ण लोगों से जुड़ा मामला है। पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के संज्ञान में भी इसे लाना पड़ेगा। जैसा पार्टी आलाकमान निर्देश देगा हम कार्रवाई करेंगे।
भाजपा विधायक दल की मंगलवार को हुई बैठक में भाजपा नेताओं के मतभेद उस वक्त खुलकर सामने आ गए थे, जब वसुंधरा राजे ने बारां में सांसद दुष्यंत सिंह के निवास पर हुई तोड़फोड़ के मामले को उठाया। बगल में बैठे कई नेताओं की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई थी। बैठक के शुरू होने के बाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने अपने साथ बूंदी में हुई घटना की पार्टी के विधायकों को जानकारी दी।
पूनिया ने हमले को सरकार की साजिश करार दिया और कहा, कोटा शहर में दौरे के वक्त उनके साथ पुलिस एस्कॉर्ट थी मगर जैसे ही वह कोटा का दौरा पूरा कर जयपुर के लिए रवाना हुए तो बूंदी की सीमा तक पुलिस उन्हें छोड़कर चली गई। वह कुछ ही किलोमीटर चले होंगे कि कांग्रेस के 300-400 गुंडे सामने आ गए। पहले काले झंडे दिखाए और फिर बीच हाइवे में कार के ऊपर चढ़कर हंगामा करने लगे। इस दौरान उनकी कार पर पत्थरों की बरसाए भी की गई। इस संघर्ष में उनके पीएसओ के कपड़े फट गए और आधे घंटे तक वह कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का तांडव बर्दाश्त करते रहे। इस दौरान उन्होंने बड़ी मुश्किल से अपने आपको वहां से बाहर निकाला।

यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम में छात्राओं की एंट्री पर लगाया बैन     |     पीएम मोदी ने महात्मा गांधी की 75वीं पुण्यतिथि पर बापू को किया याद     |     एसडीपीआई 100 सीटों पर लड़ेगी चुनाव     |     इंदौर के लिए नए पुलिस कमिश्नर की ढुंढाई शुरू      |     करेली में अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हुआ विवाद, महिला ने खुद पर डाला केरोसिन     |     बलूचिस्तान में गहरे नाले में गिरी बस, 39 की दर्दनाक मौत, कई घायल     |     मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201