Breaking
टीम इंडिया की जर्सी में चुनावी पोस्टर में फोटो लगाने पर ट्रोल हुए  Ravindra Jadeja बीएलओ ने मतदान केंद्र में बैठने के लिए शिक्षक से मांगी चाबी तो हुआ विवाद, अब उच्च अधिकारियों तक पहुं... अंबिकापुर में 6 साल के मासूम बच्चे के अपहरण के बाद हत्या कर दफनाया अमृतसर में भारत-पाक सीमांत क्षेत्र से STF की टीम ने पकड़ी हथियारों की खेप Malaika Arora संग कैसा है अरबाज खान की गर्लफ्रेंड Georgia Andriani का रिश्ता? घर पर अकेली थी लड़की, पानी पीने के बहाने घुसा पड़ोसी; जान से मारने की दी धमकी देकर भागा लाइटिंग व डीजे वाले 2 लोगों ने शादी समारोह से 7 साल की बच्ची का अपहरण कर किया गैंगरेप  माता वैष्णों के दरबार में माथा टेका; जम्मू-कश्मीर से IT क्षेत्र में सहयोग का किया वादा कपूरथला में बोले- हम सर्वे में नहीं, सरकार में आते हैं; 16 मेडिकल कॉलेज बनेंगे चाचा ने मारकर जमीन में गाड़ दिया; खेलने निकला था, फिर लौटा ही नहीं

भारत की इस जगह को माना जाता है पाताल लोक

आपने स्वर्ग लोक, नर्क लोक और पाताल लोक की कहानियां खूब सुनी होंगी, लेकिन हकीकत में अगर आप इसे देखना चाहते हैं तो आपको मध्यप्रदेश में जाना होगा. मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से करीब 78 किलोमीटर दूर पातालकोट नामक स्थान है, जिसे लोग पाताल लोक कहते हैं. ये स्थान धरातल से 3000 किलोमीटर नीचे बसा है. पातालकोट में 12 गांव हैं, जो सतपुड़ा की पहाड़ियों में बसे हैं. यहां गोंड और भारिया जनजाति के लोग रहते हैं. इन गांवों में से 3 गांव तो ऐसे हैं, जहां सूरज की रोशनी कभी नहीं पहुंचती. इस कारण वहां हमेशा शाम जैसा नजारा रहता है.

पातालकोट का ये इलाका औषधियों का खजाना माना जाता है. यहां का हर गांव तीन से चार किलोमीटर की दूरी पर बसा है. इस इलाके में जाते ही आपको हर जगह घने पत्ते, कई तरह औषधीय जड़ी-बूटियां और वन्य पौधे और जीव जन्तु देखने को मिलेंगे. यहां रहने वाले लोग बाहरी दुनिया से एकदम कटे हुए हैं. पातालकोट रहने वाले लोग अपने लिए खाने-पीने की चीजें आसपास ही उगा लेते हैं. इन लोगों के लिए पानी का एकमात्र साधन दूधी नदी है. सिर्फ नमक की खरीददारी ये बाहर से करते हैं. दोपहर के बाद ये पूरा क्षेत्र अंधेरे से इतना घिर जाता है कि सूरज की तेज रोशनी भी इस घाटी की गहराई तक नहीं पहुंच पाती.

यहां रहने वाले गोंड और भारिया जनजाति के लोगों का मानना है कि इसी जगह माता सीता धरती में समा गई थीं, जिससे यहां एक गहरी गुफा बन गई थी. इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि जब प्रभु श्रीराम और लक्ष्मण को अहिरावण पाताल ले गया था, तब हनुमान जी उनके प्राण बचाने के लिए इसी रास्ते से पाताल गए थे. कुछ लोगों का मानना है कि पातालकोट, पाताल लोक जाने का प्रवेशद्वार है.

कुछ समय पहले पातालकोट के कुछ गांवों को सड़क से जोड़ने का काम पूरा हुआ है. अगर आप भी यहां घूमने के इच्छुक हैं तो जबलपुर या भोपाल एयरपोर्ट पर उतरकर पातालकोट पहुंच सकते हैं. ट्रेन के जरिए जाने वालों को यहां पहुंचने के लिए छिंदवाड़ा रेलवे स्टेशन पर उतरना होगा. फिर यहां से टैक्सी किराए पर लेकर पातालकोट पहुंच सकते हैं. पातालकोट जाने के लिए सबसे बेहतर समय मॉनसून का है. घाटी के अंदर तक का सफर तय करना चाहते हैं तो अक्टूबर से फरवरी का समय बेस्ट है. यहां अगर आप ठहरने के लिए अच्छे होटल की तलाश में रहेंगे, तो आपकी ये तलाश पूरी होना मुश्किल है. यहां या तो आप टेंट लगाकर रह सकते हैं, या फिर तामिया या पीडब्ल्यूडी के गेस्ट हाउस में रहने की सुविधा मिल सकती है.

टीम इंडिया की जर्सी में चुनावी पोस्टर में फोटो लगाने पर ट्रोल हुए  Ravindra Jadeja     |     बीएलओ ने मतदान केंद्र में बैठने के लिए शिक्षक से मांगी चाबी तो हुआ विवाद, अब उच्च अधिकारियों तक पहुंची शिकायत     |     अंबिकापुर में 6 साल के मासूम बच्चे के अपहरण के बाद हत्या कर दफनाया     |     अमृतसर में भारत-पाक सीमांत क्षेत्र से STF की टीम ने पकड़ी हथियारों की खेप     |     Malaika Arora संग कैसा है अरबाज खान की गर्लफ्रेंड Georgia Andriani का रिश्ता?     |     घर पर अकेली थी लड़की, पानी पीने के बहाने घुसा पड़ोसी; जान से मारने की दी धमकी देकर भागा     |     लाइटिंग व डीजे वाले 2 लोगों ने शादी समारोह से 7 साल की बच्ची का अपहरण कर किया गैंगरेप      |     माता वैष्णों के दरबार में माथा टेका; जम्मू-कश्मीर से IT क्षेत्र में सहयोग का किया वादा     |     कपूरथला में बोले- हम सर्वे में नहीं, सरकार में आते हैं; 16 मेडिकल कॉलेज बनेंगे     |     चाचा ने मारकर जमीन में गाड़ दिया; खेलने निकला था, फिर लौटा ही नहीं     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201