Breaking
“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता... विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

शिप्रा नदी में कच्चा बांध बहने के बाद संतों का फूटा आक्रोश, धरने पर बैठे

उज्जैन। कान्ह नदी में सोमवार को उफान आने और मिट्टी का कच्चा बांध टूटने के बाद मंगलवार को कुछ साधु-संत त्रिवेणी घाट क्षेत्र पहुंचे। शिप्रा की स्थिति देखकर साधु-संतों ने आक्रोश जताया और वहीं धरने पर बैठ गए। उल्लेखनीय है कि कान्ह का पानी शिप्रा में मिलने से रोकने के लिए जल संसाधन विभाग ने पिछले महीने पिपल्याराघो स्टाप डैम पर बोरी बंधान कर स्टाप डैम की ऊंचाई बढ़ाई थी। चार दिन पहले ही त्रिवेणी घाट के समीप गोठड़ा गांव में मिट्टी का कच्चा बांध भी बनाया था। इस बार बांध की ऊंचाई भी पहले की अपेक्षा दोगुना रखी थी।

जल निकासी के लिए बांध में आठ इंची चार पाइप भी डाले थे। बावजूद सोमवार को जब कान्ह में उफान आया तो पानी स्टापडेम से उछलकर कच्चे बांध को तोड़कर शिप्रा में मिल गया। इससे मकर संक्रांति स्नान के लिए शिप्रा में भरा नर्मदा का सारा स्वच्छ जल भी खराब हो गया।

उज्जैन में पहले शनिश्चरी अमावस्या पर भी टूटा था बांध

इसके पहले शनिश्चरी अमावस्या (4 दिसंबर-2021) के दिन भी कान्ह में उफान आने से गोठड़ा में बनाया मिट्टी का कच्चा बांध टूटा था। उल्लेखनीय है कि नर्मदा-शिप्रा के शुद्ध संगम जल में पर्व स्नान कराने के लिए साल-2016 के बाद से जल संसाधन विभाग हर साल गोठड़ा में दिसंबर या जनवरी में मिट्टी का कच्चा बांध बनाता आया है। यह बांध कुछ दिनों में टूटता भी रहा है। यह पहली बार है जब इस साल दो महीनों में दो बार विभाग को कच्चा बांध बनाना पड़ा है।

“भाषा” महज एक शब्द नहीं, संस्कृति का पर्याय है। यदि संस्कृति को बचाना है तो भाषा को बचाना होगा     |     जन-जन को जोड़ें “महाकाल लोक” के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान     |     Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस     |     राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ     |     विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला     |     मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों ‘झूठ दिआं पंडां     |     कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा     |     करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा     |     स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित     |     दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201