पेरिस में मां काली: 1971 में दिल्ली की कलाकार जोड़ी की चर्चित कलाकृति ने अब फ्रांस में मचाई धूम

पेरिसः 1971 में, जब कलाकार माधवी पारेख  जो लोक प्रतिमाओं की जटिल पृष्ठभूमि के खिलाफ हथियारों से लैस मां काली की पेंटिंग बनाकर सुर्खियों में आई थीं, तो किसी ने सोचा भी न था उनकी यहीं कला कृति एक दिन विदेशों में धूम मचा देगी। खासकर दुनिया की सार्टोरियल राजधानी पेरिस में एक फैशन रैंप की यात्रा करने का विचार की तो कल्पना करना भी मुश्किल था।  लेकिन पांच दशक बाद माधवी पारेख की  “वर्ल्ड ऑफ काली” कलाकृति पिछले हफ्ते वैश्विक लक्जरी ब्रांड क्रिश्चियन डायर की बसंत-गर्मियों 2022 हाउते कॉउचर प्रस्तुति में वार्तालाप स्टार्टर बनकर फिर से सुर्खियों में आ गई है।

माधवी पारेख के पति कलाकार मनु पारेख के काम के साथ प्रदर्शित “वर्ल्ड ऑफ काली” का एक कशीदाकारी संस्करण को पेरिस के मुसी रोडिन में फैशन की दिग्गज कंपनी के सेट का हिस्सा बनने का गौरव हासिल हुआ।  मॉर्डन आर्ट  पर आधारित “वर्ल्ड ऑफ काली” की सावधानी से कशीदाकारी टेपेस्ट्री ने उतना ही ध्यान आकर्षित किया जितना कि डायर के रचनात्मक निदेशक इतालवी फैशन डिजाइनर मारिया ग्राज़िया चिउरी द्वारा प्रदर्शित कपड़ों ने ध्यान खींचा ।

82 वर्षीय मनु ने कहा कि माधवी पारेख और करिश्मा स्वाली चाणक्य के लिए  शक्ति की शक्ति, 2021-22 में जैविक कैनवास के H138 ”xL142” कपड़े पर बहु-विषयक हाथ की कढ़ाई कला को  जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है।  COVID-19 महामारी के कारण व्यक्तिगत रूप से शो में शामिल होने में असमर्थ  कलाकारों ने इसे कार्यक्रम को अपने दिल्ली के घर से लाइव देखा। मनु मे कहा कि “मैंने कई साल पहले पारेख के कामों को इकट्ठा करना शुरू किया और आधुनिकता और पारंपरिक भारतीय रूपांकनों के बीच एक अविश्वसनीय तालमेल पाया। इस सहयोग के लिए सामूहिक दृष्टि एक ऐसा अनुभव बनाना था जो शिल्प कौशल की संस्कृति और हम सभी के बीच परस्पर संबंध  दर्शाता है

उन्होंने बताया कि स्वाली ने फैशन ब्रांड तक पहुंचने और उन्हें बोर्ड में लाने की पहल की। यूरोप की एक बाद एक  यात्रा के दौरान  उन्होंने और चिउरी ने माधवी द्वारा 12 और मनु द्वारा 10 कार्यों को टेपेस्ट्री पर अनुवाद करने के लिए चुना, जिसमें स्मारकीय प्रदर्शन शामिल है।  इसमें लोक और ग्रामीण परंपराओं में माधवी की पेंटिंग और मनु की आध्यात्मिक सार  पर आधारित प्रसिद्ध   एक प्रस्तुति शामिल है।  स्वाली कहती हैं, “हम उन कार्यों को देख रहे थे, जिन्हें हमने महसूस किया कि वे पुरुष और महिला ऊर्जाओं के पूरक हैं, जो एक साथ पूर्ण सामंजस्य बिठाते हैं।”

राज्य सरकार ने सबका साथ सबका विकास पर काम किया : वित्त मंत्री देवड़ा     |     मुख्यमंत्री चौहान ने बॉटल ब्रश, आम और कचनार के पौधे लगाए     |     चमकाने के बहाने जालसाज फिर जेवर लेकर हुए फरार     |     मुख्यमंत्री चौहान ने संत रविदास की जयंती पर नमन किया     |     जनता की जिन्दगी बदलने का अभियान है विकास यात्रा : मुख्यमंत्री चौहान     |     परवेज मुशर्रफ का 79 वर्ष की उम्र में हुआ निधन     |     अब 15 मिनट में खुलेंगे किसानों के खाते     |     कराची में अहमदी समुदाय की मस्जिद में उपद्रवियों ने की तोड़फोड़     |     भाषा और धर्म के आधार पर देश को बांटा जा रहा : कमलनाथ     |     कर्नाटक में कांग्रेस ने ‘प्रजा ध्वनि यात्रा’ शुरू की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201