Breaking
दोस्तों को मैसेज लिखकर फांसी के फंदे पर लटका पीएचडी स्कॉलर आइजोल पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दी सौगातें ममता पर जमकर बरसीं स्मृति, हिंदू समुदाय पर हमले पर जताई नाराजगी राजा भोज एयरपोर्ट पर अब बैटरी चलित वाहनों का उपयोग, कम होगा कार्बन उत्सर्जन, ईंधन भी बचेगा मुख्यमंत्री ने लोकप्रिय जननेता बिसाहू दास महंत और लोक नाचा के जनक दाऊ दुलार सिंह मंदराजी की जयंती पर... कराची में खाद्यान्न वितरण केंद्र पर मची भगदड़ में 12 लोगों की मौत ऐतिहासिक फैसला, सऊदी और भारतीय खुफिया एजेंसियों के बीच सहयोग को मंजूरी  यात्री वाहनों की बिक्री में आया जबरदस्त उछाल व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए देश का अहित न करें, मध्‍य प्रदेश के सतना में मोहन भागवत ने कहा केजरीवाल अपना मानसिक संतुलन खो चुके, उनका भी भष्ट्राचार सामने आएगा : त्रिवेदी

चीन ने लिया रूस को आर्थिक व सैन्य सहायता देने का फैसला 

रूस व चीन के दोस्ताना रिश्ते किसी से छिपे नहीं हैं। उसे निभाने के लिए चीन ने यूक्रेन जंग के बीच रूस की सैन्य व आर्थिक मदद का फैसला कर लिया है। इससे रूस की मदद नहीं करने के लिए चीन को राजी करने के अमेरिकी प्रयासों को धक्का पहुंचा है। चीन यूक्रेन में सशस्त्र ड्रोन भेज सकता है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, जेक सुलिवन ने इटली की राजधानी रोम में चीन के एनएसए यांग जिएची के साथ सात घंटे की मैराथन बैठक की। इसमें उन्होंने यूक्रेन पर हमले को लेकर अमेरिकी पक्ष रखा।

अमेरिकी दल को रोम में चीनी अधिकारियों व राजनयिकों के साथ मुलाकात की संभावना कम थी। बाइडन प्रशासन के एक अधिकारी ने इस मुलाकात के बाद कहा कि सात घंटे की गहन चर्चा से अंदाज लगाया जा सकता है कि कितना नाजुक दौर चल रहा है। यह संवाद जारी रखने की हमारी वचनबद्धता को भी दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यह बैठक किसी विशेष मुद्दे ना नतीजों को लेकर नहीं थी, बल्कि सीधे संवाद का प्रयास थी।

अमेरिकी अधिकारी रोम से निराश होकर लौट गए हैं, उन्हें कम उम्मीद है कि चीन की  सरकार मॉस्को के समर्थन को लेकर अपने फैसले में बदलाव करेगी। बाइडन प्रशासन के अधिकारी ने कहा कि यहां मुख्य बात यह है कि चीन को मौजूदा हालात में अपनी स्थिति के पुन: आकलन के लिए कैसे राजी किया जाए? हमें तो इसकी कोई संभावना नजर नहीं आती है।

चीन से मंगाए जाने वाले सैन्य सामान में हथियारों से लैस ड्रोम अहम व कई तरह की गोलाबारूद शामिल है, लेकिन कोई भी सैन्य सहायता सीधे नहीं पहुंचाई जा सकती है। दोनों पक्ष जानते हैं कि उनके बीच कोई साझा प्रणाली नहीं है, इसलिए यह मदद भेजना भी आसान नहीं है। रूस चीन से राशन के पैक भी मांग रहा है। इससे पता चलता है कि रूस को जंग लंबी खींचने से कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। लड़ाई जितनी लंबी चलेगी रूस की समस्या उतनी बढ़ती जाएगी।

दोस्तों को मैसेज लिखकर फांसी के फंदे पर लटका पीएचडी स्कॉलर     |     आइजोल पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दी सौगातें     |     ममता पर जमकर बरसीं स्मृति, हिंदू समुदाय पर हमले पर जताई नाराजगी     |     राजा भोज एयरपोर्ट पर अब बैटरी चलित वाहनों का उपयोग, कम होगा कार्बन उत्सर्जन, ईंधन भी बचेगा     |     मुख्यमंत्री ने लोकप्रिय जननेता बिसाहू दास महंत और लोक नाचा के जनक दाऊ दुलार सिंह मंदराजी की जयंती पर उन्हें किया नमन     |     कराची में खाद्यान्न वितरण केंद्र पर मची भगदड़ में 12 लोगों की मौत     |     ऐतिहासिक फैसला, सऊदी और भारतीय खुफिया एजेंसियों के बीच सहयोग को मंजूरी      |     यात्री वाहनों की बिक्री में आया जबरदस्त उछाल     |     व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए देश का अहित न करें, मध्‍य प्रदेश के सतना में मोहन भागवत ने कहा     |     केजरीवाल अपना मानसिक संतुलन खो चुके, उनका भी भष्ट्राचार सामने आएगा : त्रिवेदी     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201