Breaking
फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां

दूरसंचार मंत्री ने भारत में निर्मित, डिज़ाइन किए गए उत्पादों की वकालत की, कहा- विदेश कंपनियां भी करें साझेदारी

नए जमाने की टेक्नोलॉजी में भारत की तीव्र प्रगति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 5जी नेटवर्क विकास के अपने अंतिम चरण में है। देश ने स्वदेशी रूप से 4जी कोर नेटवर्क और रेडियो नेटवर्क भी विकसित किया है

नई दिल्ली। दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मंगलवार को बेहतर गुणवत्ता और लागत का हवाला देते हुए भारत में डिजाइन और निर्मित उत्पादों को अपनाने की जोरदार वकालत की। मंत्री ने वैश्विक कंपनियों से भारतीय उद्यमियों, कंपनियों, निर्माताओं, स्टार्टअप्स और डेवलपर्स के साथ अधिक साझेदारी विकसित करने पर विचार करने का भी आग्रह किया। ‘इंडिया – टेलीकॉम 2022’ के उद्घाटन सत्र में बोलते हुए, मंत्री ने कहा कि हाल ही में शुरू किए गए व्यापक सेमीकंडक्टर कार्यक्रम को “अच्छी प्रतिक्रिया” मिली है।

नए जमाने की टेक्नोलॉजी में भारत की तीव्र प्रगति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 5जी नेटवर्क विकास के अपने अंतिम चरण में है। देश ने स्वदेशी रूप से 4जी कोर नेटवर्क और रेडियो नेटवर्क भी विकसित किया है, जबकि यह 6जी मानकों के विकास में भाग ले रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से हम विनियमन को कम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने उद्योग, शिक्षा जगत, संगठनों और वैश्विक कंपनियों से भारत में डिजाइन और निर्मित उत्पादों पर गंभीरता से विचार करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, ये बेहतर गुणवत्ता लाएंगे और साथ ही वे टेक्नोलॉजी के स्तर पर मजबूत होंगे।

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग के एक प्रमुख हब के रूप में उभरा है। उन्होंने कहा कि देश में इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण लगभग 75 अरब डॉलर का है।

यह 20 प्रतिशत से अधिक सीएजीआर से बढ़ रहा है, अब हमने एक प्रमुख सेमीकंडक्टर कार्यक्रम शुरू किया है। उन्होंने वैश्विक कंपनियों से भारतीय उद्यमियों, कंपनियों, निर्माताओं, स्टार्टअप्स और डेवलपर्स के साथ मिलकर काम करने पर गंभीरता से विचार करने की अपील की।

फैक्ट्री में काम करते टूटा था हाथ, लगते ही मां दुर्गा को दोनों हाथों से भेंट किया नारियल     |     प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को दिया गया प्रमाण पत्र, युवाओं के उज्जवल भविष्य दी गाई शुभकामना     |     डिटेक्टिव स्टाफ ने बसंत विहार के पास पकड़े, पिस्तौल और कारतूस बरामद     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र पर साधा निशाना     |     यूएस वेकेशन से वापस लौटे आमिर खान     |     अवैध संबंधों के शक में गड़ासे से काटकर की हत्या     |     छत्तीसगढ़ :  बर्थडे पार्टी के नाम पर होटल में चल रहा था देह व्यापार     |     बलरामपुर में हुई खेलकूद प्रतियोगिता, खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा     |     इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड में 284 पदों पर निकली भर्ती     |     गाजियाबाद के गुलधर स्टेशन पर पूरा हुआ काम, 7 पॉइंट में पढ़िए एक्सकेलेटर की खूबियां     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 8860606201